रेलवे ने लिया नया फैसला, 17 मई तक ट्रेनें बंद, लेकिन इन लोगों के लिए चलेंगी

रेलवे

पटना। कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए देश में तीसरा लॉकडाउन लागू कर दिया गया है। भारतीय रेलवे ने अपने सभी डिविजन से खुलने वाली ट्रेनों पर 17 मई तक के लिए रोक लगा दी है। इस अवधि के दौरान किसी भी प्रकार के यात्री रेलगाड़ियों का परिचालन नहीं हो पाएगा।

रेल मंत्रालय के एग्जीक्यूटिव डायरेक्टर राजेश दत्त वाजपेयी ने कहा कि सभी यात्री ट्रेनें 17 मई तक पूर्णतया बंद रहेगी। उन्होंने कहा कि पूर्व की तरह मालगाड़ी और पार्सल स्पेशल ट्रेनों का परिचालन होता रहेगा। टिकट के रद्दी संबंधित नियम को भी आगे बढ़ा दिया गया है।

हालांकि रेलवे विशेष परिस्थितियों के लिए ट्रेनें चलाएगी। उन्होंने कहा कि विशेष परिस्थितियों में राज्य सरकारों और केंद्र सरकार की सहमति के विभिन्न जगहों के लिए ट्रेन चलाई जा सकती है। विशेष अनुमति से राज्य सरकार के अनुरोध पर केंद्र की अनुमति के बाद रेलवे ट्रेन चलाने का फैसला लेगी।

यह भी पढ़ें -   Indian Railway ने दिया न्यू ईयर गिफ्ट! 1000 किलोमीटर पर 20 से 40 रुपए बढ़ा किराया

दूसरी तरफ रेलवे ने देश के अलग-अलग हिस्सों में फंसे छात्रों और मजदूरों के लिए ट्रेन चलाने का फैसला किया है। विभिन्य राज्यों की मांगों को देखते हुए केंद्र सरकार ने गाइडलाइंस में बदलाव कर छात्रों, मजदूरों और तीर्थ यात्रियों की वापसी के लिए विशेष ट्रेन के परिचालन के लिए अनुमति दी है।

केंद्र सरकार की अनुमति के बाद शुक्रवार को तीन विशेष ट्रेन अलग-अलग हिस्सों से छात्रों और मजदूरों को लेकर अपने – अपने गंतव्य स्थान के लिए रवाना हुई। तेलंगाना से झारखंड के लिए रवाना हुई ट्रेन के रांची पहुंचते ही मजदूरों का फूल-मालाओं से स्वागत किया गया। पहले केंद्र सरकार बाहर फंसे लोगों को लाने के लिए बसों का इंतजाम करने को कहा था।

यह भी पढ़ें -   Lockdown: केरल में गाइडलाइन से अधिक छूट देने पर गृह मंत्रालय ने जताई आपत्ति

हालांकि केंद्र के इस फैसले पर बिहार सरकार ने हाथ खड़े कर दिए। जिसके बाद केंद्र सरकार ने छात्रों और मजदूरों के लिए स्पेशल ट्रेन चलाने की अनुमति दी। केंद्र सरकार से इजाजत मिलने के बाद कई ट्रेनें मजदूरों और छात्रों के लेकर अलग-अलग राज्यों के लिए रवाना हो चुकी है।