ड्रोन स्टार्ट-अप के क्षेत्र में काम कर रहे युवाओं को केंद्र सरकार देगी मदद – प्रधानमंत्री

ड्रोन स्टार्ट-अप

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ड्रोन स्टार्ट-अप क्षेत्र में काम कर रहे युवाओं को सरकार की मदद का भरोसा दिया है। पीएम मोदी ने कहा कि नए ड्रोन नियम भारत में इस क्षेत्र के लिए एक ऐतिहासिक क्षण की शुरुआत है। प्रधानमंत्री ने कहा कि नए ड्रोन नियम से इस क्षेत्र में स्टार्ट-अप और ड्रोन टेक्नोलॉजी के अन्य क्षेत्रों में काम करने वाले युवाओं को काफी मदद मिलेगी।

इस संबंध में पीएम मोदी ने ट्विट कर कहा, ‘नए ड्रोन नियम भारत में इस क्षेत्र के लिए एक ऐतिहासिक क्षण की शुरुआत है। ये नए नियम विश्वास और स्व-प्रमाणन पर आधारित हैं। अब अनुमोदन, अनुपालन आवश्यकताओं और प्रवेश बाधाओं को काफी कम कर दिया गया है।’

यह भी पढ़ें -   Pakistan in Punjab! केंद्र सरकार ने सेना और बीएसएफ को जारी किया रेड अलर्ट

पीएम मोदी ने कहा, ‘नए ड्रोन नियम इस क्षेत्र में काम करने वाले स्टार्ट-अप और हमारे युवाओं की काफी मदद करेंगे। यह नवाचार और व्यापार के लिए नई संभावनाएं खोलेगा। यह भारत को ड्रोन हब बनाने के लिए नवाचार, प्रौद्योगिकी और इंजीनियरिंग में भारत की ताकत का लाभ उठाने में मदद करेगा।’

बता दें कि केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्रालय ने नए ड्रोन नियम 2021 को पारित कर दिया है। इसके साथ ही देश में ड्रोन उड़ाने को लेकर नियम बदल गए हैं। नए नियम के मुताबिक, भारी पेलोड वाले ड्रोन और ड्रोन टैक्सियाँ अब 300 के बजाय 500 किलोग्राम पेलोड ले जा सकती हैं। वहीं केंद्र सरकार ने फॉर्म की संख्या 25 से घटाकर 5 कर दिया है। ड्रोन उड़ाने से संबंधित लाइसेंस जारी करने से पहले किसी सुरक्षा मंजूरी की अब जरूरत नहीं है।

यह भी पढ़ें -   'मन की बात' में बोले पीएम, दिमाग से भी जानी चाहिए लाल बत्ती
क्या होता है ड्रोन?

ड्रोन एक प्रकार का फ्लाइंग रोबोट होता है। इस ड्रोन को मानव द्वारा नियंत्रित किया जाता है। पहले ड्रोन का इस्तेमाल दैनिक कार्यों के लिए किया जाता था। लेकिन अब ड्रोन का इस्तेमाल खुफिया जानकारी प्राप्त करने के लिए बहुत व्यापक तरीके से होता है। ड्रोन को मानव रहित विमान (Unmanned Aerial Vehicle-UAV) भी कहा जाता है।