नव वर्ष आया, जूलियस तेरा नव वर्ष आया

नव वर्ष आया, जूलियस तेरा नव वर्ष आया

नव वर्ष आया
जूलियस तेरा नव वर्ष आया
रोम का शासक पटु शहंशाह, सबके मन पर ऐसा छाया
हर जन ने है शोर मचाया
जूलियस तेरा नव वर्ष आया।

Join Whatsapp Group Join Now
Join Telegram Group Join Now

चारों तरफ अँधेरा छाया
घना कोहरा है गहराया
ठंड से ठिठुर रही वसुंधरा
रजनी ने आँसू लरजाया,
जूलियस तेरा नव वर्ष आया।

सर्द हैं रातें,सर्द विचारें,
गर्द रंग, बेपर्द हैं इंसा।
मन में मौज ले आई फौज है,
तन कठुआया, दिल हरषाया
जूलियस तेरा नव वर्ष आया।

तन पर बहुत आडम्बर ओढ़े,
लाभ-हानि घर बैठ है जोड़े
तमस बुभुक्षा, भ्रष्ट पिपासा
मधुशाला भी है गरमाया,
जूलियस तेरा नव वर्ष आया।

यह भी पढ़ें -   जहाँ तुमसे है माँ...

बबिता सिंह
हाजीपुर, वैशाली,बिहार

Join Whatsapp Group Join Now
Join Telegram Group Join Now

Follow us on Google News

देश और दुनिया की ताजा खबरों के लिए बने रहें हमारे साथ। लेटेस्ट न्यूज के लिए हन्ट आई न्यूज के होमपेज पर जाएं। आप हमें फेसबुक, पर फॉलो और यूट्यूब पर सब्सक्राइब कर सकते हैं।