कश्मीर में घुसपैठ की कोशिश नाकाम, मुठभेड़ में 5 आतंकी ढेर

नई दिल्ली। आर्मी के जवानों ने कश्मीर के माछिल सेक्टर में 5 आतंकियों को मार गिराया। सुरक्षा बलों ने आतंकियों के कश्मीर में घुसने की कोशिश को नाकाम कर दिया। आतंकी एलओसी पर घुसपैठ की कोशिश कर रहे थे। सभी के पास से हथियार भी जब्त किया गया है। आर्मी अफसर ने न्यूज एजेंसी यूएनआई को बताया कि जवान लाइन ऑफ कंट्रोल पर पैट्रोलिंग कर रहे थे, तभी उन्होंने देखा कि आतंकियों का एक ग्रुप पाक अधिकृत कश्मीर की तरफ से भारतीय सीमा में घुसने की कोशिश कर रहा है। जवानों ने आतंकियों को सरेंडर करने के लिए कहा। लेकिन आतंकियों ने गोलीबारी शुरू कर दी। जवानों ने इसका जवाब देते हुए पांच आतंकियों को मार गिराया।

Read Also: वेंकैया नायडू बने देश के 13वें उपराष्ट्रपति, मिले 68 फीसदी वोट

आर्मी अफसर के मुताबिक, आतंकियों के पास से हथियार भी बरामद किया गया है। सीमा पार से घुसपैठ का प्रयास दोपहर बाद हुआ। मच्छल सेक्टर में अग्रिम इलाके में गश्त कर रहे सैन्य दल ने घुसपैठियों को भारतीय इलाके में देख उन्हें ललकारा। इस पर घुसपैठिये फायरिंग करते हुए वापस गुलाम कश्मीर की तरफ भागने लगे। जवानों ने आसपास की सुरक्षा चौकियों को सूचित करते हुए घुसपैठियों का पीछा किया।

पीछा करते वक्त आतंकियों से जवानों की मुठभेड़ शुरू हो गई और पांचों आतंकियों को मार गिराया गया। आतंकियों के पास से पांच एसाल्ट राइफलें, 16 मैगजीन, भारी मात्रा में कारतूस, दो वायर कटर, 12 हथगोले, मैट्रिक्स शीट, जीपीएस, तीन रेडियो सेट, दवाएं, खाने-पीने का सामान व कुछ अन्य युद्धक सामग्री भी मिली है।

Read Also: चीनी सेना ने भारत को दी धमकी, पीछे हटे भारत, अब सब्र टूट रहा

मुठभेड़ और आतंकियों के मारे जाने की पुष्टि करते हुए रक्षा मंत्रालय के प्रवक्ता कर्नल राजेश कालिया ने कहा कि फिलहाल पूरे इलाके में एतिहात के तौर पर सघन तलाशी अभियान जारी है। इससे पहले भी कश्मीर में कई आतंकी मुठभेड़ हो चुके हैं। सुरक्षा बलों ने पिछले 7 महीनों में अबतक 125 से ज्यादा आतंकी को मार गिराया है। इससे पहले 1 अगस्त को सुरक्षा बलों ने पुलवामा के हाकरीपोरा में एनकाउंटर में लश्कर-ए-तैयबा के टॉप कमांडर अबु दुजाना समेत 2 आतंकियों को मार गिराया था।

 

मोबाइल पर भी अपनी पसंदीदा खबरें पाने के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करें और ट्विटरगूगल प्लस पर फॉलो करें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *