चीनी सेना ने भारत को दी धमकी, पीछे हटे भारत, अब सब्र टूट रहा

Chinese army gave threat India now patience broken
0
()

नई दिल्ली। भारत के शांतिपूर्ण हल के प्रयासों के बावजूद चीन द्वारा धमकी भरा बयान देना जारी है। इस चीन की सेना ने डोकलाम को लेकर भारत को धमकी दी है। चीनी सेना की ओर से कहा गया है कि उनके संयम की सीमा खत्म हो रही है। भारत को तुरंत ही पीछे हट जाना चाहिए। पीएलए ने अपने बयान में कहा है कि चीन अपनी सीमा की रक्षा के लिए पूरी तरह से तैयार है।

चीन के रक्षा मंत्रालय के प्रवक्ता और पीएलएन के कर्नल रेन गुओकियांग ने बयान जारी कर कहा है कि चीन ने गुडविल दिखाते हुए इस मामले पर अभी तक कूटनीतिक रास्ता अपनाया है। लेकिन इसकी भी एक सीमा है। हमारा संयम खत्म होने की ओर है। रक्षा प्रवक्ता ने उलटे भारत पर आरोप लगाते हुए कहा कि भारत को इस भ्रम से निकल जाना चाहिए कि देर करने से डोकलाम का हल निकल जाएगा।

यह भी पढ़ें -   पीएम मोदी के अरुणाचल दौरे से चिढ़ा चीन, कहा- इस विवादित क्षेत्र में भारतीय नेता का दौरा सही नहीं

Read Also: बदलेगा मुगलसराय स्टेशन का नाम, सरकार के इस कदम पर राज्यसभा में हंगामा

चीनी सेना के कर्नल ने धमकी भरे लहजे में कहा कि चीन की जमीन को कोई भी देश नहीं ले सकता है। चीन की सेना अपनी भूभाग और देश की संप्रभुता की रक्षा के लिए पूरी तरह से तैयार है। बता दें कि हाल ही भारत स्थित चीनी दूतावास की और से 15 पेज का एक बयान जारी किया गया था जिसमें भारत की डोकलाम में मौजूदगी को गलत ठहराने की कोशिश की गई थी। इससे पहले चीन ने बीजिंग में स्थिति विदेशी दूतावासों, सुरक्षा परिषद के स्थायी सदस्य देशों के प्रतिनिधियों और जी-20 के प्रतिनिधियों को डोकलाम में भारत के खिलाफ फर्जी सबूत पेश कर भड़काने की कोशिश कर चुका है।

यह भी पढ़ें -   चीन की गुस्ताखी, हिंद महासागर में तैनात की पनडुब्बी

Read Also: सरकार ने किया 11.44 लाख पैन नंबर रद्द, पता करें अपने पैन के बारे में

वहीं गुरुवार को भारतीय विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने राज्यसभा में चीन के मामले पर बयान दिया। उन्होंने कहा कि युद्ध कोई विकल्प नहीं है। भारत-चीन और भूटान मिलकर इस मामले का हल बातचीत से निकालेंगे। उन्होंने कहा कि युद्ध के बाद भी बातचीत के लिए दोनों पक्षों को बैठना ही पड़ता है। सुषमा स्वराज ने कहा कि भारत अपने स्वभिमान की रक्षा के लिए तैयार है लेकिन शांति को प्राथमिकता देना हमारी नीति है। भारत ने चीन को 2012 के त्रिपक्षीय समझौते के पालन को लेकर भी सलाह दी है।

यह भी पढ़ें -   गोरक्षा के नाम पर लोगों की हत्या करने वालों को पीएम मोदी ने फटकारा

Read Also: व्हाट्सएप को टक्कर देने के लिए पेटीएम लाएगी मैसेजिंग सर्विस

बता दें कि भारत और चीन के बीच डोकलाम को लेकर पिछले 50 दिनों से गतिरोध जारी है। चीन गाहे-बगाहे धमकी भरा बयान देता रहता है। अभी चीन और भारत की सेना डोकलाम में शांतिपूर्वक आमने-सामने हैं।

 

मोबाइल पर भी अपनी पसंदीदा खबरें पाने के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करें और ट्विटरगूगल प्लस पर फॉलो करें

How useful was this post?

Click on a star to rate it!

Average rating / 5. Vote count:

No votes so far! Be the first to rate this post.

We are sorry that this post was not useful for you!

Let us improve this post!

Tell us how we can improve this post?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *