पीओके के पीएम ने लगाई इमरान खान से गुहार, अपने भाई-बहनों की रक्षा करें

पीओके

नई दिल्ली। पीओके के प्रधानमंत्री राजा फारूक हैदर ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान से गुहार लगाते हुए कहा है कि पीओके में अपने भाई-बहनों की रक्षा के लिए पाकिस्तान सरकार सेना भेजे। हैदर ने कहा कि केवल जुबानी बयानबाजी से काम नहीं चलेगा। इमरान खान को आने आना चाहिए और अपनी सेना को भारत पर हमला करने के लिए कहना चाहिए।

Join Whatsapp Group Join Now
Join Telegram Group Join Now

बता दें कि हैदर का बयान ऐसे समय में आया है जब भारत सरकार ने भारत का अभिन्न हिस्सा जम्मू-कश्मीर के गिलगिट, बाल्टिस्टान और पीओके का मौसम अपडेट जारी करना शुरू कर दिया है। भारत सरकार जम्मू-कश्मीर के इस उत्तरी-पश्चिमी हिस्से को हमेशा से ही भारत का अभिन्न हिस्सा बताता रहा है।

यह भी पढ़ें -   पुलवामा हमला: क्रिकेट में भी पाकिस्तान को बाहर का रास्ता दिखाने की कोशिशें तेज!

भारत के इस कदम से बौखलाए फारूक हैदर ने कहा कि पीएम इमरान खान की ड्यूटी है कि वे अपने भाई-बहनों की रक्षा करें। भारत पीओके के बारे में मौसम पूर्वानुमान जारी कर रहा है तो हमें दिल्ली के मौसम अपडेट करना चाहिए। बता दें कि हैदर ने इमरान खान से कहा कि अब केवल जुबानी बयानबाजी से काम नहीं चलने वाला है।

बता दें कि भारत ने हाल ही में पीओके, गिलगिट-बाल्टिस्तान सहित पूरे जम्मू-कश्मीर क्षेत्र का एक साथ मौसम अपडेट जारी करने की शुरूआत की है। भारत के इस कदम से पाकिस्तान की नींद हराम हो चुकी है। आनन-फानन में पाकिस्तान के सरकारी रेडियो ने रविवार को जम्मू और कश्मीर का मौसम का अपडेट प्रसारित किया।

यह भी पढ़ें -   राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद का अभिभाषण, सीएए ने राष्ट्रपिता के सपने को पूरा किया

बता दें कि गिलगिट-बाल्टिस्तान भारत के जम्मू-कश्मीर राज्य का ही हिस्सा है। पाकिस्तान ने भारत के विभाजन और आजादी के तुरंत बाद ही इस हिस्से पर धोखे से कब्जा कर लिया। जबकि यह हिस्सा भारत के जम्मू-कश्मीर संभाग का अविभाज्य हिस्सा है जिसे भारत अपना अभिन्न हिस्सा बताता है। बता दें कि भारत सरकार ने पिछले साल जम्मू-कश्मीर से धारा 370 हटाकर जम्मू-कश्मीर को यूटी का दर्जा दिया था।

Join Whatsapp Group Join Now
Join Telegram Group Join Now

Follow us on Google News

देश और दुनिया की ताजा खबरों के लिए बने रहें हमारे साथ। लेटेस्ट न्यूज के लिए हन्ट आई न्यूज के होमपेज पर जाएं। आप हमें फेसबुक, पर फॉलो और यूट्यूब पर सब्सक्राइब कर सकते हैं।