रामायण की सीता- क्या आपको पता है कि बीजेपी सांसद रह चुकी हैं?

रामायण की सीता

नई दिल्ली। देशभर में देशभर में कोरोना को लेकर चल रहे लॉकडाउन के तनाव को थोड़ा हल्का करने के लिए भारत सरकार के आदेश के बाद दूरदर्शन के डीडी नेशनल चैनल पर रामायण का प्रसारण फिर से शुरू किया गया है। रामायण का प्रसारण सुबह 9 और रात 9 बजे से किया जा रहा है।

रामानंद सागर द्वारा निर्मित रामायण सीरियल जनवरी 1987 से जुलाई 1988 तक चला था और बड़ा हिट हुआ था। अब लगभग 30 सालों बाद रामायण की फिर से टेलीकास्ट की वजह से इसकी स्टार कास्ट फिर से सुर्ख़ियों में आ गयी हैं। राम का किरदार निभाने वाले अरुण गोविल, लक्ष्मण बने सुनील लहरी, रावण बने अरविंद त्रिवेदी और सीता का किरदार निभाने वाली दीपिका चिखलिया एक बार फिर ख़बरों के केंद्र में आ गये हैं। फिलहाल जानते हैं दीपिका चिखलिया के बारे में-

रामायण की सीता का किरदार निभाने वाली दीपिका ने अपना फ़िल्मी करियर 80 के दशक की शुरुआत में शुरू किया था। हालांकि उन्हें फ़िल्मों से उतनी शोहरत नहीं मिली, जितनी रामानंद सागर की रामायण की सीता बनकर। इस किरदार ने दीपिका को घर-घर पहुंचा दिया था। राम और सीता जैसे किरदार लोगों ने पहली बार छोटे पर्दे पर देखे थे। जितनी श्रद्धा से लोग रामायण को देखते थे, उतने ही भक्ति भाव से इन कलाकारों को देखा जाता था।

यह भी पढ़ें -   क्या सच में इटली के लोग अपने पैसों को सड़क पर फेंक रहे हैं?

रामायण की सीता दीपिका को रामायण से मिली इसी बेहिसाब लोकप्रियता ने संसद तक पहुंचा दिया। रामायण में सीता का रोल निभाने वाली दीपिका 1991 में बीजेपी के टिकट पर वड़ोदरा से चुनाव जीतकर संसद पहुंची थीं। दीपिका ने 1994 के बाद फ़िल्मों से लम्बा ब्रेक ले लिया। उन्होंने कुछ फिल्मों में काम करने के बाद शादी कर ली।

अपने एक इंटरव्यू में दीपिका चिखलिया ने कहा कि ‘मैं अपने जीवन में बेहद व्यस्त रही और मुझे समय ही नहीं मिला कि मैं यह सोच पाती कि कुछ छूट रहा है। शादी और बच्चों के साथ मैं खुश थी। मैंने उन पलों को इंजॉय किया। जब मेरी छोटी बेटी दसवीं में थी तब भी मुझे एक सीरियल का ऑफर आया जिसे मैंने बड़े प्यार से मना कर दिया, क्योंकि मेरी बेटियां मेरी प्राथमिकता रही।

You May Like This!😊