बिहार में कोरोना का कहर- पटना में तीसरे स्टेज पर कोरोना, प्रशासन सतर्क

बिहार में कोरोना

पटना। बिहार में कोरोना (Corona in Bihar) के मामले में तेजी से बढ़ रहे हैं। बिहार की राजधानी पटना में कोरोना महामारी को रोकने के लिए स्वास्थ्य विभाग ने बड़ा कदम उठाया है। स्वास्थय विभाग की तरफ से विदेश से 10 मार्च के बाद लौटे हर उस व्यक्ति तलाश की जा रही है जो कोरोना संदिग्ध हो सकते हैं। खबरों के मुताबिक, इन व्यक्तियों की संख्या 1790 है।

Join Whatsapp Group Join Now
Join Telegram Group Join Now

बिहार में कोरोना (Corona in Bihar) की महामारी को देखते हुए स्वास्थ्य विभाग ने इस काम के लिए कई टीम बनाई  हैं। ये टीमें विदेश से आए हर एक-एक व्यक्ति को ढूंढेगी। अगर ऐसे में कोई संदिग्ध मिलता है तो उसे आइसोलेशन में रखा जाएगा और उसके संपर्क में आए हर व्यक्ति की जांच होगी।

बता दें कि बिहार में कोरोना (Corona in Bihar) के अबतक 15 मामले सामने आ चुके हैं। कोरोना से बिहार में अभी तक एक व्यक्ति की मौत हो चुकी है। बिहार में पहला कोरोना पॉजिटिव मरीज हाल ही में विदेश ले भारत लौटा था। ऐसे में स्वास्थ्य विभाग ने विदेश से आए हर व्यक्ति को संदिग्ध की श्रेणी में रख दिया है। अब ऐसे लोगों की तलाश अलग-अलग टीम बनाकर की जा रही है जो 10 मार्च के बाद विदेश की यात्रा करके आए हैं।

यह भी पढ़ें -   बिहार विधानसभा चुनाव के लिए चुनाव आयोग ने अधिकारियों की ट्रेनिंग शुरू की

सरकार ने स्वास्थ्य विभाग के साथ जिला प्रशासन को इसकी जिम्मेदारी सौंपी है कि ऐसे लोगों की तलाश कर उनकी जांच करानी है। अगर कोई कोरोना की पॉजिटिव रिपोर्ट आती है तो उनके संपर्क में आए लोगों की भी तलाश की जाएगी। इस काम को डीएम और सिविल सर्जन की निगरानी में किया जा रहा है।

ऐसे खोज की जाएगी विदेश से आए लोगों की:

बिहार में कोरोना (Corona in Bihar) के बढ़ते मामलों के बीच जिला प्रशासन ऐसे लोगों की सूची तैयार कर रहा है, जो 10 मार्च के बाद विदेश से राजधानी पटना या बिहार के किसी और जिले में आए हैं। विदेश से लौटे संबंधित व्यक्ति से मोबाइल पर बात की जा रही है। वह मौजूदा समय में कहां है और क्वारंटाइन में है या नहीं,  स्वास्थ्य विभाग जिला प्रशासन से मिलने वाली सूची पर जांच करने का काम कर रही है।

यह भी पढ़ें -   दरिंदगी: गुमला में शादी समारोह में दो युवतियों के साथ दरिंदों ने किया सामूहिक दुष्कर्म

सूची के आधार पर आसपास के लोगों से संबंधित व्यक्ति के बारे में पूरी जानकारी जुटाई जा रही है। सूचना के अनुसार कई ऐसे विदेशी लोग हैं जो गलत सूचनाएं भी दे रहे हैं। अगर कोई होम क्वारंटाइन का पालन नहीं कर रहा है तो उसकी अलग से सूची बनाई जाएगी, जिसमें उसके संपर्क में आने वाले व्यक्ति  भी जांच के दायरे में होंगे।

राजधानी पटना में अब तीसरे स्टेज में पहुँचा कोरोना 

जिस तरह सैफ के सपंर्क में आए लोगों में कोरोना पॉजिटिव मिल रहा है, उससे साफ जाहिर है कि कोरोना का तीसरा स्टेज पटना में दस्तक दे चुका है। सूत्रों का कहना है कि बाहर से आए लोगों में भी अगर ऐसी ही स्थिति मिली तो हालात बेकाबू हो सकते हैं। डॉक्टरों का कहना है कि जैसे ही जांच का दायरा बढ़ेगा, वैसे ही संक्रमण के मामले भी तेजी से सामने आएंगे।

यह भी पढ़ें -   12 लाख इनामी रियाज नायकू ढेर, परिवार को नहीं सौंपा जाएगा शव

यही कारण है कि अधिक से अधिक क्वारंटाइन सेंटर व आइसोलेशन वार्ड बनाने काम तेज कर दिया गया है। 10 मार्च के बाद विदेश से लौटे लोगों का नमूना लिया जा रहा है। ऐसे लोगों के वेरीफिकेशन कराने का काम तेज कर दिया गया है। उन्हें चिन्हित कर उनकी पूरी यात्रा के बारे में जानकारी जुटाकर जांच रिपोर्ट तैयार की जाएगी।

Join Whatsapp Group Join Now
Join Telegram Group Join Now

Follow us on Google News

देश और दुनिया की ताजा खबरों के लिए बने रहें हमारे साथ। लेटेस्ट न्यूज के लिए हन्ट आई न्यूज के होमपेज पर जाएं। आप हमें फेसबुक, पर फॉलो और यूट्यूब पर सब्सक्राइब कर सकते हैं।