छठा चरण: इन दिग्गजों की किस्मत ईवीएम में कैद, 23 को होगा भाग्य का फैसला

नई दिल्ली। लोकसभा चुनाव के छठे चरण का मतदान हो चुका है। छठा चरण का चुनाव कई मायनों में दिलचस्प है। कई दिग्गजों की किस्तम इस चरण के मतदान के बाद भविष्य की गर्त में कैद हो चुका है। जिन सीटों पर मतदान हो चुका है- उनमें हैं, उत्तर प्रदेश की 14, हरियाणा की 10, बिहार, पश्चिम बंगाल और मध्य प्रदेश की 8-8 सीटें, दिल्ली की 7 और झारखंड की 4 सीटें शामिल हैं।

उत्तर प्रदेश

बात करते हैं सीएम योगी के राज्य उत्तर प्रदेश से। जहां पर फिलहाल भाजपा की सरकार है। उत्तर प्रदेश में कई दिग्गजों के भाग्य का फैसला 6ठा चरण का यह चुनाव करेगा। जिन बड़े नेताओं की किस्तम ईवीएम में कैद हो गई है उनमें हैं- सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव, योगी सरकार में कैबिनेट मंत्री रीता बहुगुणा जोशी, केंद्रीय मंत्री मेनका गांधी, जगदंबिका पाल, रमाकांत यादव, मुकुट बिहारी वर्मा और संजय सिंह जैसे दिग्गजों की प्रतिष्ठा दांव पर है।

अखिलेश यादव को आज़मगढ़ से चुनौती देने के लिए भाजपा ने भोजपुरी फिल्मों के सुपरस्टार दिनेश लाल यादव (निरहुआ) को आज़मगढ़ से टिकट दिया है। वहीं सुलतानपुर से वरुण गांधी सांसद हैं, लेकिन उन्होंने अपनी मां मेनका गांधी से सीटों की अदला-बदली की है। पीलीभीत से वरुण गांधी चुनाव लड़ रहे हैं तो वहीं उनकी माता मेनका गांधी सुलतानपुर से चुनाव लड़ रही हैं।

sixth-phase-the-fate-of-these-legends-will-be-imprisoned-in-evm-23-will-be-decided-by-destiny

इलाहाबाद सीट भाजपा ने योगी सरकार में मंत्री रीता बहुगुणा जोशी को मैदान में उतारा है। यहां पर भाजपा सांसद श्यामाचरण शुक्ल के भाजपा से बगावत करने के बाद रीता जोशी को उतारा गया। वहीं गठबंधन की तरफ से यहां पर सपा ने राजेंद्र सिंह पटेल को मैदान में उतारा है।

फूलपुर सीट का चुनाव बड़ा ही दिलचस्प है। यहां पर पिछले चुनाव में कैशव प्रसाद मौर्य चुनाव जीते थे। लेकिन उनके मुख्यमंत्री बनने के बाद सीट खाली हो गई थी। जिसके बाद हुए उपचुनाव में भाजपा के हाथ यह सीट निकल गई थी। इस सीट पर सपा ने कब्जा कर लिया और सपा उम्मीदवार नागेंद्र पटेल विजयी हुए थे।

हरियाणा

हरियाणा में 10 सीटों पर छठे चरण में एक साथ चुनाव हो रहा है। भाजपा यहां पर अकाली दल से गठबंधन कर चुनावी मैदान में उतरी है। फिलहाल हरियाणा में सात सीटों पर भाजपा, एक पर कांग्रेस और दो पर इनेलो का कब्जा है। सोनीपत, हिसार, रोहतक और सिरसा चार लोकसभा सीटें ऐसी हैं, जो काफी संवेदनशील हैं। सोनीपत से पूर्व सीएम भूपेंद्र सिंह हुड्डा प्रत्याशी हैं, जबकि भाजपा की तरफ से यहां से सांसद रमेश कौशिक मैदान में हैं।

sixth-phase-the-fate-of-these-legends-will-be-imprisoned-in-evm-23-will-be-decided-by-destiny

पश्चिम बंगाल

पश्चिम बंगाल में असली लड़ाई झाडग्राम, मेदिनीपुर, पुरुलिया, बांकुड़ा, विष्णुपुर और घाटाल सीट पर है। जीत की उम्मीद को देखते हुए पीएम नरेंद्र मोदी से लेकर भाजपा अध्यक्ष अमित शाह समेत कई दिग्गज भाजपा नेताओं ने चुनाव प्रचार में पूरी ताकत लगा दी थी। झारग्राम में 39 में से 28 ग्र्राम पंचायतों पर भाजपा का कब्जा है। वहीं पुरुलिया की 1920 पंचायत सीटों में से भाजपा ने 638 सीट जीतीं। इसलिए बंगाल पर भाजपा की पैनी नजर है।

मध्य प्रदेश

एमपी में मुख्य रूप से भाजपा और कांग्रेस के बीच मुकाबला है। छठे चरण में यहां की भोपाल सीट पर मुकाबला दिलचस्प और कांटे की है। सबसे चर्चित भोपाल सीट पर कांग्रेस ने जहां पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह को उतारा है वहीं भाजपा ने मालेगांव बम धमाके की आरोपित साध्वी प्रज्ञा ठाकुर को प्रत्याशी बनाकर मामला रोचक बना दिया है।

छठे चरण में केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर और पूर्व केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया के भाग्य का भी फैसला होगा। सिंधिया राजघराने का गढ़ मानी जाने वाली गुना सीट पर चुनाव जीतना भाजपा के लिए बड़ी चुनौती है। हालांकि भाजपा पूरी जोर लगा रही है।

बिहार

बिहार में छठे चरण में कुल आठ सीटों पर मुकाबला हो रहा है। यहां पर भी मुकाबला काफी दिलचस्प है। इस बार कई नए उम्मीदवार मैदान में हैं। नए उम्मीदवारों की वजह से यह चुनाव काफी रोचक है। पूर्वी चंपारण से केंद्रीय कृषि मंत्री राधामोहन सिंह का मुकाबला आकाश सिंह से हैं जो पिछले महीने ही राजनीति में कदम रखा है।

sixth-phase-the-fate-of-these-legends-will-be-imprisoned-in-evm-23-will-be-decided-by-destiny

राधामोहन सिंह काफी लंबे अनुभव वाले नेता हैं। उनके खिलाफ रालोसपा ने कांग्रेस के राज्यसभा सांसद अखिलेश सिंह के पुत्र को मैदान में उतारकर सबको चौंकाया है। वहीं सिवान में मो. शहाबुद्दीन की पत्नी हिना शहाब और अजय सिंह की पत्नी कविता सिंह के बीच मुकाबला है। दोनों ही आपराधिक छवि के नेता की पत्नी हैं।

वाल्मीकिनगर में जदयू ने वैद्यनाथ महतो को उतारा है जिनका मुकाबला कांग्रेस के शाश्वत केदार से है। बता दें कि शाश्वत पूर्व मुख्यमंत्री केदार पांडेय के पौत्र हैं और वह पहली बार चुनाव मैदान में उतरे हैं। पश्चिमी चंपारण में भाजपा के संजय जायसवाल और रालोसपा के ब्रजेश कुशवाहा के बीच लड़ाई है।

शिवहर से मौजूदा सांसद रमा देवी का मुकाबला राजद के फैसल अली से है। महाराजगंज में राजद के रणधीर सिंह का मुकाबला भाजपा प्रत्याशी और मौजूदा सांसद जर्नादन सिंह सिग्रीवाल से है। वहीं वैशाली में राजद के पुराने धुरंधर रघुवंश प्रसाद सिंह हैं जिनका मुकाबला लोजपा उम्मीदवार वीणा देवी से है।

नई दिल्ली

दिल्ली की सभी 7 सीटों पर मुकाबला है। बीजेपी, कांग्रेस और आप के बीच कांटे की मुकाबला है। तीनों ही पार्टियों ने वोटरों को लुभाने में कोई कसर नहीं छोड़ी है। दिल्ली में सबसे रोचक मुकाबला उत्तर- पूर्वी दिल्ली में है। यहां से कांग्रेस की पूर्व सीएम व प्रदेश अध्यक्ष शीला दीक्षित, भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष व सांसद मनोज तिवारी और आप के पूर्व संयोजक दिलीप पांडेय आमने-सामने हैं।

नई दिल्ली लोकसभा सीट पर भाजपा का कब्जा है। यहां से वर्तमान भाजपा सांसद मीनाक्षी लेखी का मुकाबला कांग्रेस के पूर्व मंत्री अजय माकन से है। चांदनी चौक से केंद्रीय मंत्री डॉ. हर्षवर्धन के सामने कांग्रेस से पूर्व मंत्री जय प्रकाश अग्रवाल हैं। आम आदमी पार्टी की तरफ से पंकज गुप्ता यहां पर मैदान में हैं। पूर्वी दिल्ली से भाजपा प्रत्याशी पूर्व क्रिकेटर गौतम गंभीर हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *