यमुना एक्सप्रेस-वे पर भीषण हादसा, तीन डॉक्टरों समेत पांच की मौत

Yamuna Expressway, 5 dead including three doctors

नोएडा। यमुना एक्सप्रेस-वे पर एक भीषण हादसा हो गया है। हादसे में तीन डॉक्टरों समेत पांच की मौत हो गई है। रविवार को हुए इस हादसे में तड़के सुबह एक्सप्रेस-वे पर दो बड़े हादसा हुआ। लगातार हो रहे हादसे की वजह से एक्सप्रेस-वे एक सुरक्षित गन्तव्य के लिए सही नहीं रह गया है। इस पर अब सवालिया निशान लगने लगे हैं।

बताया जा रहा है कि इस हादसे में एम्स के तीन डॉक्टरों समेत पांच लोगों की मौत हो गई है। हादसे में तकरीबन 27 लोगों ने घायल होने की खबर है। पहला हादसा मथुरा के पास यमुना एक्सप्रेस-वे पर हुआ, जिसमें थाना सुरीर कोतवाली इलाके में माइल स्टोन 88 के पास एक तेज रफ्तार इनोवा कार कन्टेनर से जा भिड़ी। इस हादसे में एम्स के 3 डॉक्टरों की मौके पर ही मौत हो गई, जबकि 4 अन्य डॉक्टर गंभीर रूप से घायल बताए जा रहे हैं। घायल डॉक्टरों को इलाज के लिए एम्स लाया गया है।

यह भी पढ़ें -   केंद्रीय मंत्री उमा भारती का दावा, मुख्यमंत्री रहते बलात्कारियों को टॉर्चर करने का तरीका अपनाया

ये हैं बिहार के ऐसे नेता जिनकी राजनीति सबके समझ से परे है

वहीं दूसरा हादसा भी एक्सप्रेस-वे पर ही हुआ। जानकारी के मुताबिक, दनकौर क्षेत्र में रोडवेज की बस 30 फुट नीचे जा गिरी। इस हादसे में 2 लोगों की मौत हो गयी है। हादसे में 23 लोग घायल हो गये हैं। बताया जा रहा है कि घायलों में 4 बच्चे भी हैं। बस औरैया से नोएडा आ रही थी। हादसा रविवार को तड़के सुबह हुई है।

इन डॉक्टरों की हुई मौत –

1. डॉक्टर हर्षप्रीत

2. डॉक्टर हर्षद

3. डॉक्टर हेमलता

 जनवरी 2017 तक 548 मौतें –

बता दें कि एक्सप्रेस के चालू होने के बाद जनवरी 2017 से अबतक कुल 548 लोगों की मौत एक्सप्रेस-वे के हादसे में हो गई है। जनवरी 2017 से अबतक करीब 4076 हादसे हुए हैं। गौरतलब है कि यमुना एक्सप्रेस-वे की लंबाई 165 किमी  है। यह देश का सबसे लंबा छह लेन का एक्सप्रेस-वे है। जिसे बनने में पांच साल लगे।

यह भी पढ़ें -   नौकरी दिलाने के बहाने गर्भवती महिला से 8 लोगों ने किया गैंगरेप

इस एक्सप्रेस-वे की शुरुआत दिसंबर 2007 में तत्कालीन मुख्यमंत्री मायावती ने की थी। जिसे अगस्त 2012 में यूपी के पूर्व  मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने जनता को समर्पित किया था। इस एक्सप्रेस के बनने से ग्रेटर नोएडा से आगरा तक का सफर कम हो गया है। दोनों शहरोंं के बीच की लगने वाला यात्रा समय कम हो गया है। लेकिन लगातार हो रहे हादसे चिंंता का विषय है।

सोनिया का पीएम मोदी पर तंज, ‘न खाऊंगा और न खाने दूंगा’ सिर्फ ड्रामेबाजी

यह भी पढ़ें -   लालू को एक और झटका, राबड़ी देवी को विपक्ष की नेता बनाने की मांग अस्वीकार

यह भी पढ़ें-

ग्लैमर की दुनिया की ये महिला कलाकार जिन्होंने खुदकुशी कर ली

आने वाली है सबसे तेज टेक्नोलॉजी, प्लेन से भी पहले पहुंचाएगी गन्तव्य स्थान पर

क्या आपको पता है कि इन चार समय पर नहीं मापना चाहिए वजन


मोबाइल पर भी अपनी पसंदीदा खबरें पाने के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करें और ट्विटरगूगल प्लस पर फॉलो करें

How useful was this post?

Click on a star to rate it!

Average rating / 5. Vote count:

No votes so far! Be the first to rate this post.

We are sorry that this post was not useful for you!

Let us improve this post!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *