आतंकी बुरहान की बरसी पर कश्मीर में कर्फ्यू, इंटरनेट सेवा बंद

curfew-in-kashmir-internet-service-closed-on-terrorist-burhans-anniversary

श्रीनगर। हिज्बुल कमांडर बुरहान बानी की बरसी पर शनिवार 8 जुलाई को कश्मीर में कर्फ्यू लगा दिया गया है। साथ ही कश्मीर घाटी के शेष हिस्सों में लोगों की आवाजाही पर रोक लगा दी गई है और कश्मीर में इंटरनेट सेवा को प्रतिबंधित कर दिया गया है। शनिवार को अलगाववादियों की रैली को नाकाम करने के लिए घाटी में पुलिस और केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल की भारी संख्या में तैनाती की गई है।

Join Whatsapp Group Join Now
Join Telegram Group Join Now

Read Also: डोकलम विवाद: भारत ने दी चीन को नसीहत, कहा- कूटनीति ने हल निकालें दोनों देश

समस्त कश्मीर में किसी भी प्रकार की अप्रिय घटना से निपटने के लिए भारी संख्या में पुलिस बल और अर्द्धसैनिक बलों की तैनाती भी की गई है। घाटी के हालात को देखते हुए कश्मीर में अमरनाथ यात्रा पर अगले आदेश तक रोक लगा दी गई है। अधिकारियों के अनुसार, कश्मीर के शोपियां और कुपवाड़ा जिले में भी कर्फ्यू लगाया गया है।

यह भी पढ़ें -   भारत-अमेरिका के बढ़ते संबंध से डरा पाकिस्तान, दे दिया बौखलाहट में ऐसी नसीहत

Read Also: उत्तर कोरिया परमाणु हथियारों पर कोई समझौता नहीं करेगा

अधिकारियों का कहना है कि ‘घाटी में अन्य जगहों पर लोगों की आवाजाही पर पाबंदी लगा दी गई है और इसे सख्ती से लागू किया जा रहा है।’ राज्य में विश्वविद्यालयों में शनिवार को होने वाली परीक्षाओं को स्थगित कर दिया गया है। मौजूदा स्थिति को देखते हुए जम्मू के भगवती नगर आधार शिविर से अगले आदेश तक अमरनाथ यात्रा रद्द कर दी गई है।

Read Also: Reliance Jio का धमाका, मात्र 148 में पाएं सालभर फ्री डाटा

बता दें कि अगवादियों द्वारा हड़ताल की घोषणा के बाद घाटी में सामान्य जनजीवन प्रभावित हुआ है। अधिकारियों का कहना है कि अभी तक स्थिति फिलहाल सामान्य और शांतिपूर्ण है। अमरनाथ यात्रा और कश्मीर में स्थिति को देखते हुए जम्मू-श्रीनगर राष्ट्रीय राजमार्ग पर भारी संख्या में पुलिस बल और सशस्त्र सीमा बल को तैनात किया गया है।

यह भी पढ़ें -   चीन ने फिर दी धमकी, डोकलाम से हटे भारत नहीं तो हम कश्मीर में घुस जाएंगे

Read Also: नीले रंग को दुख का कारण क्यों माना जाता है

एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने कहा कि घाटी में शांति बनाए रखने के लिए वानी के पैतृक शहर पुलवामा के त्राल में भी कर्फ्यू लगा दिया गया है। बता दें कि सैयद अली शाह गिलानी और मीरवाइज उमर फारूक के नेतृत्व वाले हुर्यित कांफ्रेंस के दोनों धड़ों और यासीन मलिक के जेकेएलएफ समेत कई अलगाववादी संगठनों ने लोगों से 36 किलोमीटर दूर त्राल तक मार्च के लिए आमंत्रित किया। वानी पिछले वर्ष 8 जुलाई को सुरक्षाबलों के साथ मुठभेड़ में मारा गया था।

यह भी पढ़ें -   उत्तराखंड में कोरोना के 20 नए केस, राज्य में कुल कोरोना संक्रमित 173

 

मोबाइल पर भी अपनी पसंदीदा खबरें पाने के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करें और ट्विटरगूगल प्लस पर फॉलो करें

Join Whatsapp Group Join Now
Join Telegram Group Join Now

Follow us on Google News

देश और दुनिया की ताजा खबरों के लिए बने रहें हमारे साथ। लेटेस्ट न्यूज के लिए हन्ट आई न्यूज के होमपेज पर जाएं। आप हमें फेसबुक, पर फॉलो और यूट्यूब पर सब्सक्राइब कर सकते हैं।