बिहार विधानसभा चुनाव के लिए चुनाव आयोग ने अधिकारियों की ट्रेनिंग शुरू की

बिहार विधानसभा चुनाव

पटना। देश में लगातार बढ़ रहे कोरोना के मामलों के बीच बिहार में बिहार विधानसभा चुनाव की तैयारियाँ दिखने लगी हैं। बिहार में चुनाव की तैयारियाँ सभी दलों ने शुरू कर दी  है। मुख्य चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ा ने कहा है कि विधानसभा चुनाव के लिए आयोग तैयारियाँ करवा रही है। आयोग ने कहा कि विधानसभा चुनाव समय पर कराए जाएंगे।

सभी अधिकारियों की ट्रेनिंग शुरू

विधानसभा चुनाव को लेकर चुनाव आयोग ने सभी निर्वाचित पदाधिकारियों को ट्रेनिंग देने का सिलसिला शुरू कर दिया है। पटना में चुनाव आयोग की तरफ से निर्वाचित पदाधिकारियों को 9 जुलाई से ट्रेनिंग दी जा रही है। अधिकारियों की ट्रेनिंग 17 जुलाई तक चलेगी। पटना के अधिवेशन भवन सभागार में ट्रेनिंग सेशन की शुरुआत की गई है।

आयोग ने कहा कि एक बार में कुल 300 लोगों को ट्रेनिंग दिया जा रहा है। ट्रेनिंग के दौरान सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों का भी पालन किया जा रहा है। निर्वाचित पदाधिकारियों को कोरोना के बीच कैसे सुरक्षित रहना है इस बात की ट्रेनिंग भी आयोग दे रहा है। आयोग यह सुनिश्चित करने में लगा है कि बिहार विधानसभा चुनाव कैसे सुरक्षित तरीके से सम्पन्न कराया जा सके।

यह भी पढ़ें -   रद्द हो सकता है आपका राशन कार्ड, जल्द करें यह जरूरी काम

विधानसभा चुनाव के लिए निर्वाचित पदाधिकारियों के रूप में 101 अनुमंडल पदाधिकारी, 101 भूमि उप समाहर्ता और अन्य वरीय पदाधिकारियों को नामित किया गया है। सभी की ट्रेनिंग शुरू हो चुकी है। मुख्य निर्वाचन आयुक्त सुनील अरोड़ा ने कहा कि विधानसभा चुनाव हर हाल में 29 नवंबर के पहले संपन्न करा लिए जाएंगे।

बिहार में 7 करोड़ 31 लाख वोटर

बिहार में तकरीबन सात करोड़ 31 लाख वोटर हैं, जिनकी सुरक्षा को लेकर चुनाव आयोग अपने स्तर पर तैयारी कर रहा है। चुनाव आयुक्त ने कहा कि चुनाव का कार्यक्रम लॉजिस्टिक, मौसम, स्कूल कैलेंडर और कोरोना से सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए बनाया जाएगा। आयोग ने कहा कि उन्होंने पहले ही यह निर्णय ले लिया है कि 65 साल से ज्यादा उम्र के मतदाता पोस्टल बैलेट के जरिए मताधिकार का प्रयोग कर पाएंगे। इसके साथ-साथ एक पोलिंग बूथ पर 1000 से ज्यादा वोटर नहीं रखे जाएंगे। बिहार में चुनाव आयोग 33 हजार से ज्यादा नए पोलिंग बूथ बनाने जा रहा है।