Credit Card News: क्रेडिट कार्ड के मोटे ब्याज से ऐसे मिलेगा छुटकारा, आज ही जानें

क्रेडिट कार्ड का ब्याज

Credit Card News: क्रेडिट कार्ड के मोटे ब्याज से आप परेशान हैं तो चिंता करने की कोई बात नहीं। आज हम आपको कुछ ऐसे तरीकों के बारे में बताएंगे, जिनको अपनाकर आप अपने क्रेडिट कार्ड के मोटे ब्याज से छुटकारा पा सकते हैं। समय पर क्रेडिट कार्ड का बिल नहीं चुकाने पर आपको बहुत ज्यादा पेनाल्टी और ब्याज भरना पड़ता है।

Join Whatsapp Group Join Now
Join Telegram Group Join Now

क्रेडिट कार्ड से ईएमआई पर खरीदारी करते समय हमेशा इस बात का ध्यान रखें कि आप जो भी खरीदारी करें उसमें पेमेंट के लिए यदि आप किस्तों पर सामान ले रहे हैं तो नो कॉस्ट ईएमआई का ऑप्शन सेलेक्ट करें। आपके क्रेडिट कार्ड का बिल जनरेट होने के बाद उसे चुकाने के लिए ड्यू डेट का इंतजार ना करें। समय पर बिल चुकाने से आपका सिविल स्कोर में भी सुधार होता है।

आजकल क्रेडिट कार्ड का इस्तेमाल लोगों द्वारा अक्सर किया जाता है। कंपनियां भी ज्यादा से ज्यादा लोगों को क्रेडिट कार्ड ऑफर कर रही हैं। ज्यादातर लोग अपने खर्च को मैनेज करने के लिए क्रेडिट कार्ड का इस्तेमाल करते हैं। क्रेडिट कार्ड में आपको 30 दिनों से लेकर 45 दिनों तक का समय मिलता है क्रेडिट कार्ड का बिल चुकाने के लिए। ऐसे में यह विपत्ति या जरूरत के समय बहुत काम की चीज साबित होती है।

यह भी पढ़ें -   एलपीजी सिलिंडर हुआ सस्ता, अपने इलाके की कीमत जानने के लिए खबर जरूर पढ़ें...

क्रेडिट कार्ड से खरीदारी करने के बाद जब क्रेडिट कार्ड का बिल बनता है तो फिर उसे समय पर चुकाना बहुत जरूरी है। यदि आप अपने क्रेडिट कार्ड का बिल समय पर नहीं छुपाते हैं तो आपको पेनल्टी और ब्याज भी भरना पड़ता है। यदि आप भी अपने क्रेडिट कार्ड के बिल से परेशान हैं तो आइए आज आपको इससे बचने का तरीका बताएंगे। यह जानते हैं कि क्रेडिट कार्ड के बिल को कैसे मैनेज करना चाहिए?

ईएमआई कराते समय नो कॉस्ट का ऑप्शन चुनें

क्रेडिट कार्ड के जरिए कोई सामान खरीदना बहुत ही आसान हो जाता है। आपके पास पैसे ना हो फिर भी आप क्रेडिट कार्ड की मदद से सामान खरीद सकते हैं। ऐसे में इस बात का ध्यान रखें कि जब भी आप के रेट कार्ड से ईएमआई पर कोई सामान ले रहे हैं तो पेमेंट के लिए नो कॉस्ट ईएमआई का ऑप्शन चुनें।

यह भी पढ़ें -   कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या 13800 के पार, अबतक 452 लोगों की मौत

नो कॉस्ट ईएमआई सीधे तरीके से ऑपरेट किया जाता है। इसके अलावा एक लिमिट से ऊपर के ट्रांजैक्शन को आप आसानी से ईएमआई में बदल सकते हैं। जब भी आप क्रेडिट कार्ड से कोई सामान लेते हैं तो हमेशा नो कॉस्ट ईएमआई का ही ऑप्शन चुनें। इससे आपको ब्याज देने से छुटकारा मिलेगा।

समय पर बिल चुका दें

कई बार ऐसा होता है कि क्रेडिट कार्ड का बिल जनरेट होने के बाद लोग उसे चुकाने के लिए पैसे जुटाना शुरू करते हैं। लेकिन यदि क्रेडिट कार्ड का बिल जनरेट हो गया है तो उसे चुकाने के लिए ड्यू डेट का इंतजार ना करें। महीने में आपके पास जब भी पैसा उपलब्ध हो तो आप क्रेडिट कार्ड का बिल चुका दें। फिर जरूरत पड़े तो क्रेडिट कार्ड के जरिए फिर से कोई सामान खरीद सकते हैं। इसमें आपको 30 से लेकर 45 दिनों तक का समय पेमेंट के लिए मिल जाता है। इस प्रकार आपका बिल हमेशा समय पर होगा और आपका क्रेडिट स्कोर पर कोई नेगेटिव फर्क नहीं पड़ेगा। धीरे-धीरे आपका क्रेडिट स्कोर सुधरेगा। इस प्रकार से आप फालतू की चीजें खरीदने से बचेंगे और खर्च भी कम होगा।

यह भी पढ़ें -   यूपी में कोरोना लॉकडाउन की निगरानी के लिए आईजी-डीआईजी की ड्यूटी

कर्ज लेकर खर्च करने की प्रवृत्ति पर लगाएं रोक

कई बार ऐसा होता है कि लोग कर्ज लेकर खर्च करते हैं। हालांकि ऐसा करना कई लोगों की मजबूरी हो सकती है। लेकिन यदि आप सिर्फ कर्ज लेकर हमेशा खर्च करते हैं तो यह आपके लिए नुकसानदायक है। कर्ज लेकर खर्च करने की प्रवृत्ति पर जितनी जल्दी हो सके रोक लगा दें।

महीने में आप जितना कमाते हैं उससे खर्च को हमेशा कम रखने की कोशिश करें। ब्याज और कर्ज के बोझ से बचने के लिए आपको कर्ज लेकर खर्च करने की प्रवृत्ति पर लगाम लगानी होगी। यदि आपके पास एक से अधिक क्रेडिट कार्ड है और उसकी लिमिट लाखों में है, फिर भी फालतू के खर्च पर लगाम लगाकर रखें। इससे आप बेवजह की खर्चों से बचेंगे और आपको ब्याज भी नहीं देना पड़ेगा।

Join Whatsapp Group Join Now
Join Telegram Group Join Now

Follow us on Google News

देश और दुनिया की ताजा खबरों के लिए बने रहें हमारे साथ। लेटेस्ट न्यूज के लिए हन्ट आई न्यूज के होमपेज पर जाएं। आप हमें फेसबुक, पर फॉलो और यूट्यूब पर सब्सक्राइब कर सकते हैं।