बौखलाए चीन ने दी कश्मीर में घुसने की धमकी

china-threatens-to-enter-kashmir

नई दिल्ली। सिक्किम क्षेत्र में डोका ला विवाद के बीच चीन के एक विश्लेषक ने कहा कि पाकिस्तान की तरफ से भारतीय कश्मीर में तीसरे देश की सेना घुस सकती है। विश्लेषक का कहना है कि जिस तरह से डोकलाम इलाके में भारतीय सैनिकों ने चीनी सेना को सड़क निर्माण करने से रोका, उसी प्रकार पाकिस्तान के आग्रह पर कश्मीर में तीसरे देश की सेना घुस सकती है।

Read Also: कैंसर पीड़ित पाक महिला ने की सुषमा स्वराज से वीजा की अपील

चाइना वेस्ट नॉर्मल यूनिवसर्टिी में भारतीय अध्ययन केंद्र के निदेशक लांग जिंगचुन ने ग्लोबल टाइम्स में छपे लेख में कहा है कि अगर भूटान भारत से  भूटान क्षेत्र को बचाने का आग्रह भी किया जाता है तो यह सिर्फ भूटान की वास्तविक सीमा तक ही होगी। विवादित क्षेत्र के लिए नहीं। आलेख में चीन की मीडिया ने सवाल उठाते हुए कहा है कि लंबे समय तक भारत अंतरराष्ट्रीय समानता और दूसरे देश के आतंरिक मामलों में दखल नहीं देने की बात करता आया है।

यह भी पढ़ें -   'डायमंड प्रिंसेज' शिप पर फंसे यात्री जा सकेंगे अपने घर, मिली इजाजत

Read Also: चीन की नई चाल, भारत में अपने नागरिकों को जारी की एडवाइजरी

आलेख में आगे लिखा गया है कि लेकिन भारत ने दक्षिण एशिया में आधिपत्य वाली कूटनीति अपनाकर संयुक्त राष्ट्र घोषणापत्र का सरासर उल्लंघन किया है और अंतरराष्ट्रीय संबंधों के बुनियादी सिद्धांतों को नजरंदाज किया है। आलेख में सिक्किम कार्ड खेलते हुए अखबार ने अपने लेख में लिखा है कि ‘सिक्किम में लोगों के आप्रवासन के जरिए आखिरकार सिक्किम संसद पर नियंत्रण कर लिया गया और भारत ने उसे हड़प कर अपने राज्यों में से एक बना लिया।’

यह भी पढ़ें -   पत्थबाजों को सेना प्रमुख का सख्त संदेश, पत्थर के बदले मिलेगी गोली

Read Also: उत्तर कोरिया परमाणु हथियारों पर कोई समझौता नहीं करेगा

चीनी मीडिया ने आगे लिखा कि भारत को इस बात का डर है कि चीन इस क्षेत्र में सैन्य गतिविधियों के जरिए तुरंत इस क्षेत्र को शेष भारत से अलग कर सकता है। भारत तिब्बत में आधारभूत संरचना निर्माण को भारत के खिलाफ भूराजनैतिक मंशा बता रहा है। लेख में यह भी कहा गया है कि भारत खुद अपने पूर्वोत्तर हिस्से में ऐसा करने में असक्षम है इसलिए वो चीन के सड़क निर्माण प्रकिया को रोकने का प्रयास कर रहा है।

यह भी पढ़ें -   भारत-मेडागास्कर समुद्री क्षेत्र की सुरक्षा में करेंगे एक-दूसरे का सहयोग

 

मोबाइल पर भी अपनी पसंदीदा खबरें पाने के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करें और ट्विटरगूगल प्लस पर फॉलो करें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *