Assembly Election Result: दिल्ली हुई ‘आप’ की

Assembly Election Result

नई दिल्ली। Assembly Election Result: दिल्ली विधानसभा चुनाव संपन्न हो गया। 8 फरवरी को हुए मतदान में जनता ने अपना फैसला सुना दिया है। एक तरफ जहां जीतने वाली पार्टी कार्यालय में जश्न है तो वहीं हारने वाले पार्टी कार्यालय में सन्नाटा। दिल्ली की जनता ने अपना फैसला सुनाते हुए आम आदमी पार्टी के फिर से दिल्ली की कमान सौंप दी।

Delhi Assembly Election के Result घोषित हो चुके हैं। दिल्ली विधानसभा चुनाव में आम आदमी पार्टी को 62 सीटें और भारतीय जनता पार्टी को 8 सीटों पर जीत मिली है। वहीं इस लड़ाई में कांग्रेस का खाता नहीं खुल पाया है। कांग्रेस को एक सीट भी नहीं मिली। पीएम नरेंद्र मोदी ने अरविंद केजरीवाल को इस जीत के लिए बधाई दी।

यह भी पढ़ें -   इस वजह से राहुल ने सिंधिया नहीं कमलनाथ को बनाया सीएम

दिल्ली विधानसभा चुनाव में जीत के बाद पीएम मोदी ने अरविंद केजरीवाल को जीत की बधाई दी। पीएम मोदी ने ट्वीट कर कहा, दिल्ली के लोगों की आकांक्षाओं को पूरा करने के लिए उन्हें शुभकामनाएँ।

पीएम मोदी के बधाई के बाद अरविंद केजरीवाल ने ट्वीट कर कहा, बहुत-बहुत धन्यवाद सर। हमारे कैपिटल सिटी को वर्ल्ड क्लास सिटी बनाने के लिए मैं केंद्र के साथ मिलकर काम करने की उम्मीद करता हूं।

भारतीय जनता पार्टी और आम आदमी पार्टी के बीच लड़ाई काफी नजदीकी थी। बीजेपी और आप से कई उम्मीदवार ऐसे हैं जो बहुत कम अंतर से जीत दर्ज किया है।

यह भी पढ़ें -   Corona in Delhi: दिल्ली वालों को फिलहाल नहीं मिलेगी लॉकडाउन में ढील
सबसे कम वोटों से चुनाव जीतने वालों की सूची
  • बिजवासन- भूपेंद्र सिंह जून(आप)- 753
  • लक्ष्मीनगर- अभय वर्मा (भाजपा) 880
  • आदर्श नगर- पवन शर्मा (आप)- 1589
  • पटपड़गंज- मनीष सिसोदिया (आप)- 3207

वोटों की गिनती जब शुरु हुई थी तब आप उम्मीदवार मनीष सिसोदिया बीजेपी उम्मीदवार रविंद्र सिंह नेगी से 78 वोटों से पीछे चल रहे थे। हालांकि 11वीं राउंड में मनीष सिसोदिया ने बीजेपी उम्मीदवार रविंद्र सिंह को पीछे छोड़ दिया और अंतत: जीत हासिल की।


देश-दुनिया की ताजा खबरों के लिए बने रहें हमारे साथ। लेटेस्ट न्यूज के लिए हन्ट आई न्यूज के होमपेज पर जाएं। आप हमें फेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम पर फॉलो कर सकते हैं और यूट्यूब पर Subscribe भी कर सकते हैं।

यह भी पढ़ें -   छठा चरण: इन दिग्गजों की किस्मत ईवीएम में कैद, 23 को होगा भाग्य का फैसला