तेरी परछाई और मेरी खामोशियाँ!

तेरी परछाई और मेरी खामोशियाँ!

परछाइयों में भी जैसे कोई चेहरा रहता है

Join Whatsapp Group Join Now
Join Telegram Group Join Now

ख़ामोशियों में भी कुछ शोर रहता है

अब तो न तू है न वो वक्त है

फिर भी, गुज़रे वक़्त का इंतजार रहता है

 

कोशिशें हज़ार बार कीं ख़ुद को समझाने की

दिल फिर न तुझसे लगाने की

बीते लम्हों की यादें मिटाने की

फिर भी न जाने क्यों आज भी तेरा ही इंतजार रहता है

 

तू ऐसे शामिल है मुझमें  ऐसे

तेरे साथ बिताए हर लम्हों में जैसे

हर दिन होता था तीज-त्यौहार

अब तो फीका सा लगता है सावन की भी ये बौछार

यह भी पढ़ें -   कोरोना संकट- सरकार मकान मालिकों पर सख्त कार्रवाई करे

 

अब न मैं तुझमें शामिल हूं

तो न अब कोई सपना है

और न ही पहले सा तू अपना है

फिर भी क्यों है ये इंतजार

 

अब भी दिल की इस दिवाली में

जज़्बातों की रोज़ ही जलती होली

न जानें अब भी कैसी ये ख्वाहिश है

तुझसे मिलने की और तुझमें सिमट जाने की

Join Whatsapp Group Join Now
Join Telegram Group Join Now

Follow us on Google News

देश और दुनिया की ताजा खबरों के लिए बने रहें हमारे साथ। लेटेस्ट न्यूज के लिए हन्ट आई न्यूज के होमपेज पर जाएं। आप हमें फेसबुक, पर फॉलो और यूट्यूब पर सब्सक्राइब कर सकते हैं।