उत्तर दिशा में सिर करके क्यों नहीं सोना चाहिए?

उत्तर दिशा में सिर करके सोने के नुकसान

उत्तर दिशा में सिर करके सोने से मना किया जाता है। ज्योतिष शास्त्र में दिशाओं का बहुत ही अधिक महत्व बताया गया है। व्यक्ति को उत्तर दिशा में सिर करके सोने से मना किया जाता है और इससे धार्मिक दृष्टि से भी अशुभ माना जाता है। यह भी पढ़ें- जानिए, बुधवार को किस दिशा में यात्रा करना होता है शुभ

Join Whatsapp Group Join Now
Join Telegram Group Join Now

हालांकि इसके कई वैज्ञानिक वजह भी हैं जिन्हें जानना बहुत ही जरूरी है। कई बार भूलवश इस प्रकार की गलतियां कर देते हैं जिससे हमें जीवन में कई प्रकार के कष्टों का सामना करना पड़ता है। लेकिन यदि हमें सोने का ज्ञान पता हो तो इन सब परेशानियों से बचा जा सकता है। यह भी पढ़ें- सरसों के तेल का दीपक जलाने के फायदे, व्यापार में उन्नति और धनवर्षा होती है

व्यक्ति के जीवन में वास्तु शास्त्र का बहुत ही अधिक महत्व होता है। जब भी हम लोग घर या ऑफिस इत्यादि बनवाते हैं तो हमेशा इस बात का ख्याल रखते हैं कि वास्तु शास्त्र के हिसाब से हमारा घर और हमारा ऑफिस सही तरीके से है या नहीं। वास्तु शास्त्र के मुताबिक, सही दिशा में सिर करके सोने से व्यक्ति को शुभ फल की प्राप्ति होती है।

उत्तर दिशा में सिर रखकर ना सोने का वैज्ञानिक कारण

यह भी पढ़ें -   काला धागा का चमत्कार, शरीर में धारण करने से आप बन सकते हैं धनवान

विज्ञान के अनुसार, शरीर जब क्षैतिज अवस्था में होती है तो हमारा पल्स रेट गिर जाता है। यह एक नियमित शारीरिक प्रक्रिया है। यदि इस अवस्था में भी रक्त का संचार सामान्य रूप से होता रहे तो रक्त की अधिक मात्रा व्यक्ति के सिर में चला जाएगा। इसके परिणाम स्वरूप सिर में कई प्रकार की समस्याएं उत्पन्न होने लगती है।

ज्योतिष शास्त्र में भी पृथ्वी के उत्तर दिशा की ओर सिर करके सोने से मना किया जाता है। इसका वैज्ञानिक कारण यह है कि पृथ्वी में उत्तर दिशा की ओर पॉजिटिव चुंबकीय क्षेत्र और दक्षिण दिशा में नेगेटिव चुंबकीय क्षेत्र होता है। दूसरी तरफ मानव शरीर का नेगेटिव चुंबकीय क्षेत्र सिर की तरफ और पॉजिटिव चुंबकीय क्षेत्र पैर की तरफ होता है।

इस प्रकार उत्तर दिशा की ओर सिर करके सोने से पृथ्वी का चुंबकीय खिंचाव मस्तिक पर दबाव पैदा करता है। इससे ब्रेन हेमरेज जैसे खतरनाक बीमारी हो सकता है। नियमानुसार पॉजिटिव और नेगेटिव चुंबकीय क्षेत्र एक दूसरे को आकर्षित करते हैं। यह भी पढ़ें- एकादशी को तुलसी में दीपक जलाना चाहिए या नहीं, तुलसी में जल कब नहीं देना चाहिए

उत्तर दिशा की ओर सिर करके सोने से व्यक्ति की रक्त प्रवाह पर अधिक दबाव पड़ता है और वह लकवा ग्रस्त, ब्रेन हेमरेज और स्ट्रोक का शिकार हो सकता है। इसलिए उत्तर दिशा में सर रखकर सोने से मना किया जाता है। यह भी पढ़ें- Maa Durga Images, HD Photos and Wallpaper : माँ दुर्गा का फोटो

यह भी पढ़ें -   Vastu Tips for Bedroom: बिस्तर के नीचे इन चीजों को रखने से बिगड़ता है पति-पत्नी का रिश्ता

उत्तर दिशा में सिर करके सोने का धार्मिक कारण

उत्तर दिशा में सर रखकर नहीं सोने का धार्मिक कारण भी है। कहा जाता है कि जब व्यक्ति की मृत्यु हो जाती है तो उन्हें उत्तर दिशा की ओर सिर करके रखा जाता है। माना जाता है कि उत्तर दिशा में सिर करके सोना इस बात का संकेत होता है कि व्यक्ति के मन में बुरे ख्याल और बुरे सपने आ सकते हैं। यह भी पढ़ें- Maa Durga Image HD, Photos and Wallpaper: माँ दुर्गा इमेज और वॉलपेपर

इसी प्रकार दक्षिण की दिशा यम की दिशा होती है। इसलिए दक्षिण दिशा की तरफ पैर करके सोने से मना किया जाता है। सोने का सबसे बेहतर और अच्छा तरीका यह है कि पैर पश्चिम दिशा की ओर और सिर पूर्व दिशा की ओर करके सोएं। यह भी पढ़ें- शुक्रवार को दुर्गा पूजा इस तरह करें, जीवन के सभी कष्ट होंगे दूर

सोने का सही दिशा

व्यक्ति को पश्चिम और उत्तर दिशा की ओर मुख करके नहीं सोना चाहिए। ऐसा माना जाता है कि इससे व्यक्ति की आयु कम होती है। आचारमयूख: के अनुसार, पूर्व दिशा की ओर सिर करके सोने से विद्या की प्राप्ति होती है। दक्षिण दिशा की ओर मुख करके सोने से धन और आयु में वृद्धि होती है।

यह भी पढ़ें -   सपने में घर में चोरी होना शुभ होता है या अशुभ, जानिए वास्तविक मतलब

इस प्रकार पश्चिम दिशा में सर रखके सोने से हमेशा चिंता बना रहता है और उत्तर दिशा की ओर सर रखकर सोने से व्यक्ति की आयु कम होती है। हालांकि घर और बाहर में इसके लिए अलग नियम होते हैं। यह भी पढ़ें- मंदिर में घी गिरना, क्या मतलब होता है? जानें शुभ-अशुभ फल

व्यक्ति को पूर्व की ओर सर रखकर अपने घर में सोना चाहिए। ससुराल में दक्षिण दिशा की ओर सर रखकर सोना चाहिए और विदेश में पश्चिम दिशा की तरफ सर को रखकर सोना चाहिए। इसी प्रकार जो व्यक्ति मृत्यु के निकट है, उनका सिर उत्तर की तरफ रखना चाहिए। मृत्यु के बाद अंतिम संस्कार के समय व्यक्ति का सर दक्षिण दिशा की तरफ रखना चाहिए। ऐसा शास्त्रों में विधान है।

इसे भी देखें

Join Whatsapp Group Join Now
Join Telegram Group Join Now

Follow us on Google News

देश और दुनिया की ताजा खबरों के लिए बने रहें हमारे साथ। लेटेस्ट न्यूज के लिए हन्ट आई न्यूज के होमपेज पर जाएं। आप हमें फेसबुक, पर फॉलो और यूट्यूब पर सब्सक्राइब कर सकते हैं।