Puja Vidhi in Home: घर में पूजा के वक्त भक्त का मुख किस दिशा में होना चाहिए?

Puja Vidhi in Home

Puja Vidhi in Home: हर कोई घर में पूजा-पाठ करता है। लेकिन क्या आपको पता है कि घर में पूजा के दौरान भक्त का मुख किस दिशा में होना चाहिए? रोज पूजा-पाठ करने से घर का माहौल सकारात्मक होता है। मन से नकारात्मक विचार नष्ट हो जाते हैं। 

Join Whatsapp Group Join Now
Join Telegram Group Join Now

नियमित रूप से रोज पूजा करने से मन शुद्ध रहता है और हर काम में व्यक्ति को सफलता मिलती है। इसी वजह से घर में लोग मंदिर बनाते हैं। लेकिन में घर में पूजा करते वक्त कुछ बातों का ध्यान रखना चाहिए। 

Puja Vidhi in Home: घर में पूजा के तरीके

घर में पूजा के वक्त मुख किस दिशा में होना चाहिए?

ज्योतिषाचार्यों के अनुसार, पूजा के वक्त भक्त का मुख पश्चिम दिशा में होना शुभ होता है। इसके लिए पूजा स्थल का द्वार पूर्व दिशा की ओर होना चाहिए। इस दिशा में पूजा करते वक्त व्यक्ति का मुख पश्चिम दिशा में होता है। लेकिन यदि पूजा के दौरान व्यक्ति का मुख पूर्व दिशा में रहता है तो भी इसे शुभ माना जाता है।

यह भी पढ़ें -   कर्ज उतारने का उपाय: सिर पर चढ़ा कर्ज उतार देंगे ये चार वास्तु टिप्स, आज से ही कर दें काम शुरू

घर में मंदिर को ऐसी जगह पर बनाना चाहिए, जहां पर दिनभर में कभी भी एक समय सूर्य की रोशनी अवश्य पहुंचती हो।

जिन घरों में सूर्य की रोशनी और हवा का आवागमन रहता है, वहां पर किसी भी प्रकार का वास्तुदोष शांत हो जाता है। सूर्य की रोशनी से वातावरण सकारात्मक बना रहता है। इससे घर की नकारात्मक ऊर्जा खत्म हो जाती है।

घर के मंदिर में अपने मृत पूर्वजों के चित्र लगाने से बचना चाहिए। पूर्वजों के चित्र को घर के दक्षिण दिशा में लगाना चाहिए। लेकिन मंदिर में भगवान की मूर्ति के अलावा किसी भी अन्य व्यक्ति की मूर्ति नहीं रखना चाहिए।

यह भी पढ़ें -   Vastu Tips: अपने घर में इस तरह रखें लाफिंग बुद्धा की मूर्ति, परिवार रहेगा खुशहाल

पूजा घर में सिर्फ पूजा से संबंधित सामग्री ही रखनी चाहिए। कोई भी अन्य वस्तु को घर में रखने से बचना चाहिए।

घर के मंदिर में रोज सुबह और शाम को दीपक जलाना चाहिए। इसके साथ ही पूजा के वक्त घंटी बजाना भी शुभ होता है। एक बार पूरे घर में घूमकर घंटी बजाना शुभ होता है। घंटी की आवाज से घर की नकारात्मक ऊर्जा नष्ट हो जाती है। 

घर के मंदिर के आसपास शौचालय नहीं बनाना चाहिए। ऐसा शुभ नहीं होता है। इसके अलावा किचन और शौचालय की दीवार भी एक नहीं होना चाहिए। पूजा घर को ऐसी जगह बनाएं जहां पर शौचालय और अन्य गंदगी का स्थान ना हो।

यह भी पढ़ें -   Palmistry: हाथ में एक से ज्यादा विवाह रेखा का क्या मतलब होता है? जानिए कहां होती है विवाह रेखा
Join Whatsapp Group Join Now
Join Telegram Group Join Now

Follow us on Google News

देश और दुनिया की ताजा खबरों के लिए बने रहें हमारे साथ। लेटेस्ट न्यूज के लिए हन्ट आई न्यूज के होमपेज पर जाएं। आप हमें फेसबुक, पर फॉलो और यूट्यूब पर सब्सक्राइब कर सकते हैं।