वित्त मंत्रालय ने 6000 करोड़ रुपए की किस्त सभी राज्यों को जारी किया

वित्त मंत्रालय

वित्त मंत्रालय ने जीएसटी राजस्व में आई कमी को पूरा करने के लिए राज्यों को 13 वीं साप्ताहिक किस्त के तहत 6000 करोड़ रुपये जारी किए है। जारी की गई राशि में से 5516.60 करोड़ रुपये 23 राज्यों को और 483.40 करोड़ रुपये की राशि 3 केंद्रशासित प्रदेशों को जारी की गई है। केंद्रशासित राज्यों में  वह तीन राज्य (दिल्ली, जम्मू और कश्मीर और पुडुचेरी) हैं, जहां पर विधानसभाएं हैं। और यह प्रदेश जीएसटी काउंसिल के सदस्य भी हैं। जबकि बाकी बचे 5 राज्य अरूणाचल प्रदेश, मणिपुर, मिजोरम, नागालैंड और सिक्किम में जीएसटी लागू करने के दौरान राजस्व में कमी नहीं आई है।

इस किस्त के बाद जीएसटी राजस्व के संग्रह में आई कमी की 70 फीसदी भरपाई राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को कर दी गई है। इस रकम में से 71,099.56 करोड़ रुपये राज्यों को जारी किए गए हैं, जबकि 6900.44 करोड़ रुपये विधानसभाओं वाले 3 केंद्रशासित प्रदेशों  को जारी किए गए हैं। भारत सरकार ने राज्य और केंद्रशासित प्रदेशों की ओर से जीएसटी राजस्व में आई कमी की भरपाई के लिए विशेष उधारी खिड़की का गठन अक्टूबर 2020 में किया था। जिसके तहत 1.10 लाख करोड़ रुपये की पूंजी मुहैया केंद्र सरकार करा रही है।

यह भी पढ़ें -   कोरोना के बाद पेट्रोल और डीजल ने भी रूलाया, सरकार ने बढ़ाया VAT

23 अक्टूबर 2020 को इसके तहत 12 वें चरण की उधारी लेने की प्रक्रिया पूरी हुई है। यह राशि राज्यों को दे दी गई है। इस हफ्ते केंद्र सरकार ने यह रकम 5.3083 फीसदी के ब्याज पर कर्ज लिया है। केंद्र सरकार, विशेष उधारी खिड़की के तहत अब तक 78 हजार करोड़ रुपये उधारी के रूप में ले चुकी है। जिस पर उसे औसतन 4.7491 फीसदी का ब्याज चुकाना होगा।

विशेष उधारी खिड़की के द्वारा पूंजी चुकाने के साथ-साथ भारत सरकार जीएसटी लागू करने में आई राजस्व की कमी को पूरा करने के लिए, राज्यों को अपने सकल घरेलू उत्पाद का 0.50 फीसदी अतिरिक्त राशि के रूप में उधार लेने का भी विकल्प दे रही है। इसके लिए राज्य विकल्प-1 का चयन कर रहे हैं। इसके तहत 28 राज्यों को 1,06,830 करोड़ (राज्यों के सकल घरेलू उत्पाद का 0.50 फीसदी) की अतिरिक्त उधारी का भी प्रावधान किया गया है।

यह भी पढ़ें -   बेंगलुरु नहीं अब दिल्ली है स्टार्ट-अप का सबसे बड़ा केंद्र

28 राज्यों द्वारा अतिरिक्त उधारी के रूप में दी गई अनुमति और उसके तहत विशेष खिड़की से जुटाई रकम की विस्तृत जानकारी परिशिष्ट में दी गई है।

वित्त मंत्रालय द्वारा राज्योंकेंद्रशासित प्रदेशों के सकल घरेलू उत्पाद के बराबर 0.50 फीसदी रकम को विशेष उधारी खिड़की के जरिए 18-01-2021 तक पारित की गई रकम

(सभी आंकड़े करोड़ रुपये में हैं)

क्रम संख्याराज्यकेंद्रशासित प्रदेशराज्यों की सकल घरेलू उत्पाद के 0.50 फीसदी के बराबर रकम जुटाने की अनुमतिराज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों के लिए विशेष खिड़की के जरिए जुटाई गई पूंजी
1आंध्र प्रदेश50511810.71
2अरुणाचल प्रदेश*1430.00
3असम1869779.08
4बिहार32313059.34
5छत्तीसगढ़17921354.08
6गोआ446658.04
7गुजरात87047225.36
8हरियाणा42933409.84
9हिमाचल प्रदेश8771345.31
10झारखंड1765735.60
11कर्नाटक90189721.07
12केरल4,5222839.56
13मध्य प्रदेश47463558.75
14महाराष्ट्र153949384.47
15मणिपुर1510.00
16मेघालय19487.69
17मिजोरम1320.00
18नागालैंड1570.00
19ओडीशा28582994.61
20पंजाब30334116.44
21राजस्थान54622912.32
22सिक्किम*1560.00
23तमिलनाडु96274890.14
24तेलंगाना50171336.44
25त्रिपुरा297177.30
26उत्तर प्रदेश97034706.53
27उत्तराखंड14051814.82
28पश्चिम बंगाल67872182.06
कुल ():10683071099.56
1दिल्लीनहीं लागू4595.25
2जम्मू और कश्मीरनहीं लागू1780.05
3पुडुचेरीनहीं लागू525.14
कुल ():Not applicable6900.44
कुल रकम (+)10683078000.00