अमेरिका ने सऊदी अरब और यूएई के साथ रक्षा समझौता किया रद्द, होगी समीक्षा

अमेरिका रक्षा समझौतों

अमेरिका ने सऊदी अरब और यूएई के साथ हुए रक्षा समझौतों पर फिरहाल रोक लगा दिया है। नई सरकार ट्रंप के शासनकाल में हुए सौदों की समीक्षा करेगी। उसके बाद ही कोई फैसला लेगी। इसलिए फिलहाल इन सौदों पर रोक लगा दी गई है।

अमेरिका के नए राष्ट्रपति जो बाइडेन (Joe Biden) ने ट्रंप प्रशासन के फैसले पलट दिया है। इसके बाद सऊदी अरब (Saudi Arabia) और संयुक्त अरब अमीरात (UAE) के रक्षा समझौतों (Defence Deals) पर रोक लगा दिया गया है। रोक के दौरान हथियारों की बिक्री नहीं हो पाएगी।

यह भी पढ़ें -   ट्रंप की धमकी पर विदेश मंत्रालय ने दिया जवाब, पहले अपने लोग जरूरी

इस रोक में यूएई के साथ हुए एफ-35 फाइटर जेट की डील भी शामिल है। यानी अब अमेरिका एफ-35 की बिक्री फिलहाल नहीं करेगा। पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड (Donald Trump) ट्रंप ने यह रक्षा सौदा सऊदी अरब और संयुक्‍त अरब अमीरात (UAE) के साथ किया था।

अमेरिकी विदेश विभाग के प्रवक्ता ने कहा कि समझौतों पर अस्थायी तौर पर रोक लगाई गई है। नई सरकार पिछली सरकार के कार्यकाल में हुए सौदों की समीक्षा करेगी। समीक्षा के बाद ही फैसला लिया जाएगा कि इन रक्षा सौदों को जारी रखना है या नहीं।

यह भी पढ़ें -   अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की बेटी इवांका की निजी सहायक कोरोना पॉजिटिव

प्रवक्ता ने आगे कहा कि जब भी कोई नई सरकार सत्ता में आती है, इस तरह के फैसले लिए जाते हैं। हम चाहते हैं कि पारदर्शिता बनी रहे। हम यह भी चाहते हैं कि हमारे सहयोगियों की सुरक्षा जरूरतों को प्राथमिकता के आधार पर पूरा किया जाए।

23 अरब का है रक्षा डील

बता दें कि अमेरिका का एफ-35 लड़ाकू विमान पांचवी पीढ़ी का लड़ाकू विमान है। इस फाइटर जेट को लेने के लिए कई देशों ने अमेरिका से संपर्क किया है। अमेरिका ने बहुत ही कम देशों को एफ- 35 लड़ाकू विमान देने की हामी भरी है। अमेरिका ने यूएई के साथ 23 अरब डॉलर डिफेंस डील की थी। इसी के तहत यूएई को अमेरिका एफ-35 लड़ाकू विमानों और अत्याधुनिक हथियार की आपूर्ति करेगा।