बेंगलुरु नहीं अब दिल्ली है स्टार्ट-अप का सबसे बड़ा केंद्र

Delhi start up center

नई दिल्ली। दिल्ली-एनसीआर ने बेंगलुरु से सबसे बड़ा स्टार्ट-अप शहर (Delhi start up center) होने का तमगा छीन लिया है। अब स्टार्ट-अप का सबसे बड़ा केंद्र है (Delhi start up center) दिल्ली-एनसीआर। दिल्ली-एनसीआर ने संख्या के लिहाज से बेंगलुरु को स्टार्ट-अप के मामले में पीछे छोड़ दिया है।

दिल्ली में न सिर्फ सबसे ज्यादा स्टार्ट-अप कंपनियां हैं बल्कि दिल्ली-एनसीआर में सबसे ज्यादा यूनिकॉर्न कंपनियां भी हैं। दिल्ली-एनसीआर में यूनिकॉर्न कंपनियों की संख्या 10 है, जबकि बेंगलुरु में 9। दिल्ली-एनसीआर की दस यूनिकॉर्न कंपनियां इस तरह हैं।

  • ओयो रुम्स
  • पेटीएम
  • डेल्हीवरी
  • हाइक
  • रिविजो
  • जौमैटो
  • पॉलिसी बाजार
  • स्नैपडील
  • रीन्यू पावर
  • पेटीएम मॉल
यह भी पढ़ें -   आशु बाबा गैंगरेप केस में बड़ा खुलासा, आशु भाई ने लगाया लड़की पर गंभीर आरोप

रिपोर्ट में दावा किया गया है कि ज्यादा वैल्यूएबल लिस्टेड इंटरनेट कंपनियों में से 75 फीसदी दिल्ली-एनसीआर में ही हैं। रिपोर्ट के मुताबिक, दिल्ली-एनसीआर में (पिछले 10 सालों में) 7,039 सक्रिय स्टार्ट-अप हैं, जबकि बेंगलुरु में ऐसे स्टार्ट-अप 5,234 हैं। तीसरे स्थान पर ऐसे 3,829 स्टार्ट-अप के साथ मुंबई का नंबर आता है।

हैदराबाद, चेन्नई और पुणे में 2000 से भी कम स्टार्ट-अप कंपनियां हैं। वहीं एनसीआर में सबसे ज्यादा 4,491 कंपनियां दिल्ली में हैं। नोएडा में 1004 कंपनियां जबकि गुड़गांव में 1,544 कंपनियां हैं। भारतीय स्टार्ट-अप के कुल बाजार पूंजी का 50 फीसदी हिस्सी दिल्ली-एनसीआर में है।

यह भी पढ़ें -   अरविंद केजरीवाल बने दिल्ली के मुख्यमंत्री, शपथग्रहण समारोह में लाखों लोग शामिल

एनसीआर में स्टार्ट-अप का कुल वैल्यूएशन 46-56 अरब डॉलर है। बेंगरलुरु और मुंबई में क्रमश: 32-37 और 10-12 अरब डॉलर है। हालांकि बीते सालों में स्टार्टअप की संख्या में गिरावट आई है। 2015 में 1,657 स्टार्ट-अप कंपनियां रजिस्टर की गई थी। वहीं 2018 में यह संख्या मात्र 420 रह गई है।