बेंगलुरु नहीं अब दिल्ली है स्टार्ट-अप का सबसे बड़ा केंद्र

नई दिल्ली। दिल्ली-एनसीआर ने बेंगलुरु से सबसे बड़ा स्टार्ट-अप शहर (Delhi start up center) होने का तमगा छीन लिया है। अब स्टार्ट-अप का सबसे बड़ा केंद्र है (Delhi start up center) दिल्ली-एनसीआर। दिल्ली-एनसीआर ने संख्या के लिहाज से बेंगलुरु को स्टार्ट-अप के मामले में पीछे छोड़ दिया है।

दिल्ली में न सिर्फ सबसे ज्यादा स्टार्ट-अप कंपनियां हैं बल्कि दिल्ली-एनसीआर में सबसे ज्यादा यूनिकॉर्न कंपनियां भी हैं। दिल्ली-एनसीआर में यूनिकॉर्न कंपनियों की संख्या 10 है, जबकि बेंगलुरु में 9। दिल्ली-एनसीआर की दस यूनिकॉर्न कंपनियां इस तरह हैं।

  • ओयो रुम्स
  • पेटीएम
  • डेल्हीवरी
  • हाइक
  • रिविजो
  • जौमैटो
  • पॉलिसी बाजार
  • स्नैपडील
  • रीन्यू पावर
  • पेटीएम मॉल

रिपोर्ट में दावा किया गया है कि ज्यादा वैल्यूएबल लिस्टेड इंटरनेट कंपनियों में से 75 फीसदी दिल्ली-एनसीआर में ही हैं। रिपोर्ट के मुताबिक, दिल्ली-एनसीआर में (पिछले 10 सालों में) 7,039 सक्रिय स्टार्ट-अप हैं, जबकि बेंगलुरु में ऐसे स्टार्ट-अप 5,234 हैं। तीसरे स्थान पर ऐसे 3,829 स्टार्ट-अप के साथ मुंबई का नंबर आता है।

हैदराबाद, चेन्नई और पुणे में 2000 से भी कम स्टार्ट-अप कंपनियां हैं। वहीं एनसीआर में सबसे ज्यादा 4,491 कंपनियां दिल्ली में हैं। नोएडा में 1004 कंपनियां जबकि गुड़गांव में 1,544 कंपनियां हैं। भारतीय स्टार्ट-अप के कुल बाजार पूंजी का 50 फीसदी हिस्सी दिल्ली-एनसीआर में है।

एनसीआर में स्टार्ट-अप का कुल वैल्यूएशन 46-56 अरब डॉलर है। बेंगरलुरु और मुंबई में क्रमश: 32-37 और 10-12 अरब डॉलर है। हालांकि बीते सालों में स्टार्टअप की संख्या में गिरावट आई है। 2015 में 1,657 स्टार्ट-अप कंपनियां रजिस्टर की गई थी। वहीं 2018 में यह संख्या मात्र 420 रह गई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *