लड्डू गोपाल को घर में रखने के नियम क्या-क्या होते हैं? जानें

लड्डू गोपाल (Laddu Gopal) भगवान कृष्ण के बाल स्वरूप है। बहुत से दंपत्ति संतान का सुख पाने के लिए घर में भगवान श्री कृष्ण के बाल स्वरूप को रखते हैं। भगवान श्री कृष्ण के बाल स्वरूप लड्डू गोपाल की मोहक छवि लोगों को सहज ही आकर्षित करता है। लड्डू गोपाल को घर में (Laddu Gopal in Home) रखने से घर में हमेशा सुख शांति और परिवार में प्रसन्नता बनी रहती है। लेकिन इन सबके बीच घर में लड्डू गोपाल को रखने के कुछ नियम भी हैं, जिन्हें अवश्य जानना चाहिए।

घर में लड्डू गोपाल को रखने के नियम की बात करें तो अन्य देवी-देवताओं की तरह ही लड्डू गोपाल की भी सेवा करनी होती है। लेकिन लड्डू गोपाल भगवान श्री कृष्ण के बाल स्वरूप हैं इसलिए अन्य देवी-देवताओं से अधिक लड्डू गोपाल की सेवा करनी होती है। यदि आपने अपने घर में लड्डू गोपाल की प्रतिमा रखी है तो आपके लिए कुछ नियमों का पालन करना बहुत ही जरूरी है।

यह भी पढ़ें -   Nag Panchami : क्यों मनाया जाता है नाग पंचमी? जानिए रहस्य

लड्डू गोपाल को घर में रखने के नियम – Laddu Gopal in Home

लड्डू गोपाल को रोज कराएं स्नान

आपके घर में यदि लड्डू गोपाल हैं तो नहीं है एक सामान्य बच्चे की तरह रोज ही स्नान कराएं। लड्डू गोपाल को स्नान कराने के लिए आपको दूध, दही, शहद, गंगाजल और घी का इस्तेमाल करना चाहिए। लड्डू गोपाल को स्नान कराने के लिए यदि शंख का इस्तेमाल करेंगे तो इससे माता लक्ष्मी आप से जल्द ही प्रसन्न हो जाएंगी।

बता दें कि शंख में माता लक्ष्मी का वास होता है। लड्डू गोपाल को स्नान कराने के बाद जो मिश्रण बनता है उसे पंचामृत समझ कर आप पी सकते हैं। इस मिश्रण को तुलसी के पौधे पर भी विसर्जित किया जा सकता है। हालांकि इस बात का ध्यान रखें कि इस मिश्रण को कभी भी नाली में नहीं बहाना चाहिए।

यह भी पढ़ें -   सपने में लड्डू गोपाल (Sapne me Laddu Gopal) की मूर्ति देखना, जानें विशेष मतलब
लड्डू गोपाल का श्रृंगार करें

स्नानादि कराने के बाद लड्डू गोपाल को श्रृंगार कराना भी बहुत ही जरूरी है। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार जो वस्त्र लड्डू गोपाल को एक बार पहना चुकी हैं उसे दोबारा ना पहनाएं। यदि आप हर रोज लड्डू गोपाल को नए वस्त्र नहींं पहना सकते हैं तो पुराने वस्त्रों को ही धोकर लड्डू गोपाल को पहनाना चाहिए। श्रृंगार के बाद लड्डू गोपाल को चंदन का टीका लगाएं और फिर उनकी नजर भी उतारें।

लड्डू गोपाल को भोग लगाएं

स्नान और श्रृंगार के बाद लड्डू गोपाल को नियमित रूप से दिन में चार बार भोग लगाएं। धार्मिक महत्व के अनुसार भगवान श्री कृष्ण शाकाहारी थे। इसलिए जिस घर में लड्डू गोपाल विराजमान हो, उस घर में प्याज, लहसुन और मांस का सेवन नहीं करना चाहिए। यदि रसोई में खाना पकाए तो उसका भोग लड्डू गोपाल को जरूर अर्पित करें। लड्डू गोपाल को खीर अति प्रिय है। इसलिए लड्डू गोपाल को आप कम मीठी और बिना मेवे की खीर का भोग लगा सकते हैं।

यह भी पढ़ें -   जानिए सावन में सोमवार को ही क्यों रखा जाता है शिवजी का व्रत, नियम और महिमा
लड्डू गोपाल की नियमित आरती करें

लड्डू गोपाल घर में आप रहते हैं तो उनका नियमित आरती करें और धूपबत्ती भी जरूर जलाएं। इसके साथ ही लड्डू गोपाल के पास श्री राधा रानी की प्रतिमा भी अवश्य रखें और उनकी भी आरती करें। दिन में चार बार लड्डू गोपाल की आरती अनिवार्य है।

लड्डू गोपाल को कभी अकेला ना छोड़ें

यदि आपने घर में लड्डू गोपाल को स्थापित किया है तो उनका भी ख्याल बिलकुल वैसे ही रखें जैसे आप अपने घर के बच्चों का रखते हैं। इसलिए घर में लड्डू गोपाल को कभी भी अकेला ना छोड़े हैं। यदि आप काफी लंबे वक्त के लिए कहीं जा रहे हैं तो लड्डू गोपाल को अपने साथ ही लेकर जाएं। जहां भी जाएं, वहां पर लड्डू गोपाल की पूजा अवश्य करें।