कान में दर्द होना – जानें इसके लक्षण, कारण और इलाज

कान में दर्द होना

कान में दर्द होना ( Ear Pain ) सभी लोगों को एक-न-एक दिन परेशान जरूर करती है। कान में दर्द होने की समस्या ( Ear Pain ) को ज्यादातर लोग आम दर्द समझते हैं लेकिन ऐसा नहीं है। कान में यदि दर्द होता है और आप अक्सर इससे परेशान रहते हैं तो डॉक्टर से जरूर संपर्क करना चाहिए। कान हमारे शरीर के नाजुक हिस्सों में से एक माना जाता है। कान में दर्द होना आगे चलकर परेशानी बढ़ा सकता है। ऐसे में इसे नजरअंदाज करना सही नहीं है।

भारत में ज्यादातर लोग कान में दर्द की समस्या होने पर घरेलू इलाज ( Home treatment ) करते हैं। लेकिन इससे कई बार फायदे की जगह नुकसान झेलना पड़ता है। कई बार कान में दर्द की समस्या का लोग समय पर इलाज नहीं करवाते हैं जिससे कई लोगों का बहरेपन का शिकार होना पड़ता है।

कान दर्द के लक्षण – ( Ear Pain Symptoms )

कान में दर्द हो रहा हो और यदि किसी व्यक्ति को यह लक्षण दिखाई दे तो सावधान हो जाना चाहिए। ऐसे लक्षण होने पर आगे चलकर कान का दर्द एक गंभीर बीमारी का रूप ले सकता है।

1. कान में असहनीय दर्द होना – कान में यदि तेज दर्द हो रहा हो तो ऐसे में सावधान होने की जरूरत है। कई बार व्यक्ति कान में अधिक दर्द की वजह से बेसुध तक हो जाता है। 

2. कान में भारीपन लगना – कई लोगों की कान में दर्द की समस्या के साथ-साथ भारीपन भी कान में महसूस होता है। यदि ऐसा होता है तो यह भविष्य में गंभीर बीमारी के खतरे का संकेत हो सकता है।

यह भी पढ़ें -   कोलन इंफेक्शन और न्यूरोएंडोक्राइन ट्यूमर क्या होता है? ऐसे करें बचाव

3. कान दर्द के समय जी मिचलाना – कई बार जी मिचलाना आम बात होती है। लोग भी इसे एक आम समस्या की तरह ही देखते हैं। लेकिन यदि कान दर्द के समय जी मिचलाए तो यह गंभीर समस्या का कारण बन सकता है।

4. कान से कम सुनाई देना – लंबे समय तक कान में दर्द रहने पर कई बार व्यक्ति को कम सुनाई देने लगता है। यानि उनकी सुनने की क्षमता कम होने लगती है। यदि कोई व्यक्ति कान से संबंधित इस तरह की समस्या से परेशान है तो उसे तुरंत ही डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए।

5. कान से तरल पदार्थ निकलना – कान में दर्द होने के साथ-साथ कई लोगों का कान बहने लगता है। उन्हें ऐसा लगता है कि उनका कान बह रहा है। ऐसी समस्या भी खतरनाक है।

कान दर्द का कारण – ( Ear Pain Causes )

कान दर्द कई कारणों से हो सकता है। यदि किसी व्यक्ति को इन कारणों की जानकारी हो तो कान दर्द की समस्या से बच सकता है।

1. कान में मैल जमना – कई बार हम कान को साफ करना भूल जाते हैं। इससे कान के अंदर मैल जम जाता है। कान में मैल जमने के बाद कान से संबंधित कई परेशानियाँ होने लगती है।

यह भी पढ़ें -   Health Tips - तनाव कैसे दूर करें, अपनाएं यह ट्रिक्स और तनाव को कहें बाय-बाय

2. कान में पानी गिरना – कई हमारे साथ ऐसा होता है कि स्नान के वक्त कान में पानी गिर जाता है। पानी जाने से कई बार कान में दर्द होने लगता है। यदि यह दर्द लंबे समय तक ठीक नहीं होता है तो इलाज करवाएं। नहीं तो आगे चलकर यह कान के पर्दे फटने का कारण बन जाते हैं।

3. कान में फुंसी होना – कई बार गलत तरीके से कान साफ करने के कारण कान में फुंसी हो जाती है। कान में फुंसी होने पर इसका तुरंत ही इलाज करें, नहीं तो यह बड़ी समस्या की वजह बन सकता है।

4. कान के पर्दे में समस्या होना – यदि किसी व्यक्ति के कान पर्दे में समस्या है, जैसे- कान के पर्दे में छेद होना, कान के पर्दे में सूजन होना इत्यादि तो ऐसे व्यक्ति को कान दर्द होने की संभावना अधिक होती है। यदि आपके कान के पर्दे में कोई दिक्कत है तो इसका बेहतर तरीके से इलाज करवाएं।

5. गले में खराश की समस्या कई बार गले में खराश होने के बाद जुकाम हो जाता है। जुकाम ज्यादा बढ़ने पर यह कान दर्द का कारण बनता है। उचित कारण जानकर इसका इलाज कराएं।

कान दर्द का इलाज – ( Ear Pain Treatment )

1. घरेलू नुस्खों के इलाज – कान दर्द होने पर सबसे आसान तरीका होता है घरेलू उपाय। यह हर घर में आसानी से उपलब्ध होता है। यदि आप कान दर्द से पीड़ित हैं तो कान में जैतून का तेल डालें। जैतून का तेल कान दर्द से छुटकारा दिला सकता है।

यह भी पढ़ें -   सुबह उठकर न करें यह काम नहीं तो हो सकता है पूरा दिन बर्बाद

2. कान में इयर ड्राप डालें – यदि कान दर्द से परेशान हैं तो कान में इयर ड्राप डालें। कान में इयर ड्राप या कान की दवाई से कान दर्द से छुटकारा पाया जा सकता है।

3. आयुर्वेदिक इलाज – भारतीय आयुर्वेदिक पद्धति में हर बीमारी का इलाज करने की क्षमता है। यदि कान में दर्द है तो इसका आयुर्वेदिक इलाज करवा सकते हैं। यदि आपको आयुर्वेदिक दवाई लेना पसंद है तो यह सबसे सही और अच्छा तरीका माना जाता है। इससे किसी भी प्रकार के साइडइफेक्ट नहीं होते।

4. एंटीबायोटिक दवा का प्रयोग – कई बार कान दर्द संक्रमण की वजह से भी होता है। ऐसे में एंटीबायोटिक दवा के माध्यम से कान दर्द को ठीक कर सकते हैं।

5. कान सर्जरी कराना – कान दर्द से बार-बार परेशानी हो रही है और यह समस्या कान के पर्दे में समस्या की वजह से हो रहा हो तो ऐसी स्थिति में डॉक्टर से परामर्श लेकर सर्जरी के द्वारा कान दर्द का निवारण किजा सकता है। कान के पर्दे की समस्या में जो सर्जरी की जाती है उसे टैंपॉनप्लास्टी सर्जरी कहा जाता है।