बचत के तरीके- अगर आप बढ़ते खर्चों से हैं परेशान तो अपनाएं यह टिप्स

बचत

आज की बढ़ती महंगाई में ज्यादातर लोगों की समस्या होती है कि वो बचत नहीं कर पाते हैं। लोग कहते हैं कि उनको आवश्यक और फिजूल खर्चों में अंतर भी करना नहीं आता है। तो आइए जानते हैं कुछ टिप्स जो आपको इस तरह की समस्या से छुटकारा दिलाने में मदद करेगा। इन टिप्स को अपनाकर आप अपने बढ़ते खर्च को कंट्रोल कर सकते हैं और अपने और परिवार के लिए कुछ बचत कर सकते हैं।

अपनी इच्छाओं और जरूरतों में फर्क समझें

ज्यादातर लोगों की इच्छाएं असीमित होती हैं। ऐसे लोग कहीं भी जाते हैं तो घूमते-फिरते उन्हें जो भी चीज पंसद आती है, वो खरीद लेते हैं। ऐसा करने के बाद उनके पूरे महीने का बजट गड़बड़ हो जाता है। इसलिए अपनी इच्छा से ज्यादा अपनी जरूरत पर जोर दें।

यह भी पढ़ें -   दांतों का पीलापन कैसे दूर करें, इन घरेलू नुस्खों से हटाएं दातों का पीलापन

क्रेडिट कार्ड की जगह पर कैश का प्रयोग करें

आजकल लोग कैश से ज्यादा कार्ड का प्रयोग करते हैं। इन क्रेडिट कार्ड्स के चक्कर में ज्यादातर लोग वो चीजें भी खरीद लेते हैं जिनकी जरूरत उन्हें हाल-फिलहाल में नहीं होती है। अक्सर यह देखा जाता है कि अगर उन्हें कार्ड की जगह कैश से खरीदारी करना पड़े तो वो खरीदने से पहले विचार करते हैं।

छोटी रकम से ही बचत की शुरूआत करें

यह भी पढ़ें -   क्या सच में इटली के लोग अपने पैसों को सड़क पर फेंक रहे हैं?

कई लोग सोचते हैं कि इतने कम पैसों में बचत कैसे करें। लेकिन यह जरूरी नहीं है। आप अपनी सैलरी का छोटा सा हिस्सा ही बचत में डालें। इससे आपका महीने का बजट भी नहीं बिगड़ेगा और बचत भी होगी। हर महीने की गई छोटी सी बचत भी धीरे-धीरे बढ़ जाती है और जरूरत पर बहुत काम आती है।

खर्चें से पहले बचत पर जोड़ दें

बहुत सारे लोग पहले खर्च करते हैं और सोचते हैं कि पहले सारे खर्च कर लें फिर बचत के लिए पैसे निकालें। लेकिन अगर आप वाकई बचत करना चाहते हैं तो अब अपने तरीके में बदलाव करें। आमदानी से जितनी संभव हो बचत करें और बाकी के बचे हुए पैसों से खर्च चलाएं।

बजट बनाकर ही खर्च करें

यह भी पढ़ें -   Horoscope in Hindi: जानिए कैसा रहेगा 29 फरवरी का दिन आपके लिए

सबसे पहले अपनी सैलरी के हिसाब से बजट बनाएं। दवाई, सब्जी और राशन जैसी जरूरतों से संबंधित खर्च के लिए पैसे अलग रख लें। इसके अलावा खर्च को डायरी में लिखने की आदत डालें। इससे आपको यह पता चल पाएगा कि कहां पर आपने जरूरी काम के लिए खर्च किया है और कहां पर आपसे बेवजह का खर्च हुआ है।