वक्त कुछ ऐसे बदला

वक्त कुछ ऐसे बदला

वक्त कुछ ऐसे बदला
कि सपनों की दुनिया में सोए
और हकीकत के जहां में जाग गए

कुछ सपने यूं पीछे छूटे
कि जैसे अचानक ही
डिज्नी के जादू से बाहर आ गए

दिलवालों के शहर दिल्ली में
सैंकड़ों दिल टूट गए

रोमांस का शहर पेरिस
अब नहीं रहा रोमांटिक
और न्यूयॉर्क की तस्वीर भी
डरावनी सी हो गई

चीन की दीवार के पीछे से
जंग की जुबान सुनाई दी
और नेपाल भी उसका
हमजुबां सा बन गया

यह भी पढ़ें -   तेरी परछाई और मेरी खामोशियाँ!

सिर्फ देश-दुनिया नहीं
गली-मुहल्ले भी बदले हैं
हम बदले, तुम भी बदले
लेकिन इसके परे हैं

इक अलग कहानी
इस वक्त ने बताया
आखिर क्या है
धन, शक्ति और सौन्दर्य
और तमाम सत्ता का दंभ

क्योंकि कुदरत के आगे
आप हैं बेबस
खरीद नहीं सकते
साफ हवा, खिली धूप
सुरक्षित जहां
प्रकृति ऐसी बदली
कि हर नजर बदल गई

पर सच ये है कि
बदलाव है जिंदगी
और यही है जिंदगी की
असल कहानी