न्यायमूर्ति मुरलीधर का आधी रात तबादला दुखद और शर्मनाक: प्रियंका गांधी

न्यायमूर्ति मुरलीधर

नई दिल्ली। दिल्ली हाईकोर्ट के न्यायाधीश मुरलीधर द्वारा केंद्र को फटकार लगाने के दिन ही मध्य रात्रि में उनका ट्रांसफर किए जाने को कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने दुखद बताया। इस बीच उनके भाई तथा कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने न्यायमूर्ति लोया के याद करते हुए केंद्र सरकार पर कटाक्ष किया, जिनकी मौत पर राजनीतिक विवाद हुआ था।

प्रियंका ने ट्वीट कर कहा कि वर्तमान स्थिति को देखते हुए न्यायमूर्ति मुरलीधर का आधी रात को ट्रांसफर चौंकाने वाली घटना नहीं है, लेकिन यह दुखद और शर्मनाक है। स्वतंत्र जांच की मांग करते हुए उन्होंने आरोप लगाया, लाखों भारतीय नागरिकों को ईमानदार न्यायपालिका पर विश्वास है, लेकिन न्याय को विफल करने और उनके विश्वास को तोड़ने का सरकार का प्रयास दुस्साहस भरा है।

इसी दौरान उनका साथ देते हुए राहुल गांधी ने भी ट्वीट कर दिया, बहादुर जज लोया की याद आई, जिनका ट्रांसफर नहीं हुआ था। न्यायाधीश बी.एच. लोया सोहराबुद्दीन मामले की सुनवाई कर रहे थे, जब दिसंबर 2014 में उनकी नागपुर में संदिग्ध मौत हो गई थी।

यह भी पढ़ें -   दिल्ली दंगो में पीएफआई का लिंक, अध्यक्ष समेत सचिव पुलिस हिरासत में

कानून एवं न्याय मंत्रालय ने बुधवार को दिल्ली हाईकोर्ट के न्यायमूर्ति एस. मुरलीधर का स्थानांतरण (ट्रांसफर) पंजाब एवं हरियाणा हाईकोर्ट कर दिया था। वहीं हाईकोर्ट जज मुरलीधर के ट्रांसफर पर केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कहा कि उनका स्थानांतरण 12 फरवरी के सुप्रीम कोर्ट कॉलेजियम के सिफारिश के तहत हुई है।

जानकारी के मुताबिक, सुप्रीम कोर्ट कॉलेजियम ने 12 फरवरी को हुई अपनी बैठक में दिल्ली हाईकोर्ट के जज एस. मुरलीधर को पंजाब और हरियाणा हाईकोर्ट में स्थानांतरित करने की शिफारिश की थी। जिसके बाद राष्ट्रपित कार्यालय द्वारा तबादले की अधिसूचना जारी की गई।