मीरा कुमार ने राष्ट्रपति चुनाव में जातिगत राजनीति पर चिंता जताई

Meera Kumar Congress leader

नई दिल्ली। राष्ट्रपति चुनाव में विपक्ष की उम्मीदवार और पूर्व लोकसभा अध्यक्ष मीरा कुमार ने राष्ट्रपति चुनाव में जातिगत राजनीति पर चिंता जाहिर की है। उन्होंने एक प्रेस कान्फ्रेंस को सम्बोधित करते हुए कहा कि उन्हें 17 दलों सर्वसम्मति से राष्ट्रपति चुनाव का उम्मीदवार बनाया है। इन दलों की विचारधारा ही हमारी शक्ति है। उन्होंने कहा कि जबसे रामनाथ कोविंद जी और मैं राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार बने तब ये चुनाव जाति आधारित हो गया, यह एक शर्मनाक बात है।

यह भी पढ़ें -   तीन तलाक असंवैधानिक घोषित, सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र को छ: महीने में कानून बनाने को कहा

बता दें कि मीरा कुमार को देश की पहली महिला स्पीकर होने का गौरव प्राप्त है। वो बिहार की रहने वाली हैं और दलित नेता बाबू जगजीवन राम की बेटी हैं। मीरा कुमार 15वीं लोकसभा में लोकसभा अध्यक्ष रह चुकी हैं। इसबार के राष्ट्रपति चुनाव में एनडीए उम्मीदवार रामनाथ कोविंद के खिलाफ विपक्ष ने मीरा कुमार को राष्ट्रपति उम्मीदवार बनाया है।

मीरा कुमार मनमोहन सिंह सरकार में सामाजिक कानून एवं सशक्तीकरण मंत्रालय भी संभाल चुकी हैं। उनका इस पद पर कार्यकाल 2004 से 2009 तक था। विपक्ष ने पूर्व लोकसभा अध्यक्ष मीरा कुमार को 7 जुलाई 2017 को होने वाले राष्ट्रपति चुनाव के लिए अपना साझा उम्मीेदवार बनाया है। वहीं एनडीए ने भारतीय जनता पार्टी के रामनाथ कोविंद को अपना राष्ट्रपति उम्मीदवार चुना है। इससे पहले कोविंद बिहार के राज्यपाल थे। कोविंद भी दलित नेता हैं और भाजपा के कद्दावर नेता माने जाते हैं।