बांग्लादेश में अफवाह के चलते कई हिंदू समुदाय के घरों में लूटपाट, लगाई आग

बांग्लादेश में अफवाह

नई दिल्ली। फ्रांस के विरोध में बांग्लादेश में कई दिनों से प्रदर्शन हो रहा है। लेकिन फेसबुक पर फैली एक झूठी अफवाह के चलते बांग्लादेश में इस्लामिक कट्टरपंथियों ने कई हिंदुओं के घरों में लूटपाट की और आग लगा दी। यह घटना बांग्लादेश के कोमिला जिले में हुई है। इस घटना ने एक बार फिर से इस्लामिक कट्टरपंथियों पर सवाल खड़ा कर दिया है।

खबरों के मुताबिक, चरमपंथियों ने फेसबुक पर इस्लाम के बारे में नाकारात्मक टिप्पणी करने की अफवाह पर इस घटना को अंजाम दिया। अल्पसंख्यक हिंदुओं पर यह हमला रविवार को शहर के मुरादनगर में हुआ। बांग्लादेश में घटित इस घटना के बाद भारत में सियासत गर्म हो गई है। विपक्ष ने सरकार से अपील की है कि वह इस मुद्दे पर तुरंत ही बांग्लादेश सरकार से बातचीत करे।

यह भी पढ़ें -   डीजीसीए ने चीन गए लोगों को भारत आने पर लगाया रोक, जानें क्या है मामला

इस्लामिक कट्टरपंथियों द्वारा इस वारदात को अंजाम दिये जाने के बाद तनाव की स्थिति बनी हुई है। बांग्लादेश में अल्पसंख्यक हिंदुओं के साथ यह घटना उस वक्त हुई जब यह अफवाह फैली कि वहां रहने वाले एक हिंदु ने फ्रांस के राष्ट्रपति की तारीफ करते हुए इस्लाम की निंदा की। इस अफवाह के बाद काफी संख्या में कट्टरपंथी इकट्ठा हुए और हिंदु समुदाय के घरों में पहले लूटपाट की और फिर आग लगा दी।

इस घटना के बाद अब इस्लामिक कट्टरपंथियों के विरोध पर सवाल उठने लगे हैं। वहीं इस मामले में एक स्कूल के हेडमास्टर सहित दो लोगों को गिरफ्तार किया गया है। कोमिला जिले के डिप्टी कमिश्नर अब्दुल फजल मीर ने बताया कि गिरफ्तार दोनों लोगों को जेल भेज दिया गया है। अन्य लोगों की वीडियो देखकर पहचान की जा रही है।

यह भी पढ़ें -   अमेरिका की चुनावी प्रक्रिया भारत से कितना अलग है? आसान शब्दों में जानिए

भारत में इस घटना पर चिंता व्यक्त किया गया। लोकसभा में कांग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी ने घटना पर चिंता व्यक्त किया। उन्होंने सरकार से मांग की कि केंद्र सरकार बांग्लादेश सरकार से मामले पर तुरंत बातचीत करे। उन्होंने कहा कि फेसबुक पर फैली अफवाह के चलते बांग्लादेश में कम से कम 15 मंदिरों को निशाना बनाया गया है। इस घटना के बाद वहां रहने वाले हिंदु में भय व्याप्त है।