जानिए भारत छोड़ो आंदोलन की कहानी, जब पूरी अंग्रेजी हुकूमत हिल गई थी

know-the-story-of-quit-india-movement-when-the-entire-british-rule-was-shaken

पुष्पांजलि शर्मा, नई दिल्ली। आज ही के दिन 71 वर्ष पहले सन् 1942 में  ‘भारत छोड़ो’  आंदोलन की चिंगारी पूरे देश में फैली थी। इस आंदोलन की शुरूआत महात्मा गांधी ने की थी। तो उस वक्त अंग्रेजी हुकूमत पूरी तरह से हिल गई थी और सभी भारतीयों को देश से अंग्रेजों को भगाने के लिए ‘करो या मरो’ का नारा दिया था।

Join Whatsapp Group Join Now
Join Telegram Group Join Now

मैं भी इंसान हूं, मुझे भी जीने दो…

यह आंदोलन मुंबई में ग्वालिया टैंक से शुरू हुआ था। अब हर साल इस को अगस्त क्रांति दिवस के रूप में मनाया जाता है। यह एक ऐसा व्यापक आंदोलन था, जिसने अंग्रेजी शासन को हिला दिया और आखिरकार 15 अगस्त, 1947 को उसे भारत को आजाद करना पड़ा।

यह भी पढ़ें -   Prime Minister of India: भारत के प्रधानमंत्री कौन हैं?

मुंबई का ग्वालिया टैंक, जहां ‘भारत छोड़ो’ आंदोलन की शुरूआत हुई थी। गांधी जी ने यहीं अपने भाषण  में कहा था कि ‘करो या मरो’ या तो हम भारत को आजाद कराएंगे या इस कोशिश में अपनी जान दे देंगे। गाँधी के इन बातों से एक बड़े आंदोलन की तैयारी होने लगी थी। महात्मा गांधी के नेतृत्‍व में शुरु हुआ यह आंदोलन सोची-समझी रणनीति का हिस्‍सा बन गई थी।

दाऊद की प्रॉपर्टी हुई इतने करोड़ में नीलाम

इस आंदोलन की खास बात थी कि इसमें पूरा देश शामिल पो गया था।  और इस आंदोलन ने ब्रिटिश हुकूमत की जड़ें हिलाकर रख दी थीं। पूरे देश में ऐसा माहौल बन गया कि भारत छोड़ो आंदोलन अब तक का सबसे विशाल आंदोलन कहा जाता है। कि इसकी व्यापकता को देखते हुए अंग्रेजों को विश्वास हो गया था कि उन्हें अब इस देश से जाना पड़ेगा।

यह भी पढ़ें -   ICSE full form in hindi - आईसीएसई क्या है और क्या कार्य करती है

मोबाइल पर भी अपनी पसंदीदा खबरें पाने के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करें और ट्विटरगूगल प्लस पर फॉलो करें

Join Whatsapp Group Join Now
Join Telegram Group Join Now

Follow us on Google News

देश और दुनिया की ताजा खबरों के लिए बने रहें हमारे साथ। लेटेस्ट न्यूज के लिए हन्ट आई न्यूज के होमपेज पर जाएं। आप हमें फेसबुक, पर फॉलो और यूट्यूब पर सब्सक्राइब कर सकते हैं।