ICSE full form in hindi – आईसीएसई क्या है और क्या कार्य करती है

ICSE full form hindi

ICSE full form in hindi – आईसीएसई क्या है और क्या कार्य करती है? इस लेख में आज हम आपको ICSE Board के बारे में जानकारी देंगे। ICSE का Full Form क्या होता है? ICSE Board की स्थापना कब की गई?  इसका Exam कब होता है? इन सभी चीजों की जानकारी हिंदी में जानिए।

ICSE का Full Form “Indian Certificate of Secondary Education” होता है। यह बोर्ड भारत और अन्य देशों में शिक्षा प्रदान करता है। ICSE का Hindi Full Form माध्यमिक शिक्षा के भारतीय प्रमाण पत्र है। ICSE का हेडक्वाटर नई दिल्ली में स्थित है।

यह भी पढ़ें -   CBSE Board Exam: 1 से 15 जुलाई होंगी पूरी परीक्षाएं, जानें क्या है पूरा प्रोसेस

इस संस्था को एक Private, Non-Government Education Board माना जाता है। ICSE Board को New Education Policy 1986 की शिफारिशों को पूरा करने के लिए बनाया गया था। इस बोर्ड की सभी परीक्षाएं केवल अंग्रेजी में ही आयोजित की जाती है। ICSE Board की परीक्षाओं में केवल इससे Affiliated Colleges के नियमित छात्र में शामिल हो सकती हैं।

ISCE Board भारत में तीन परीक्षाएँ संचालित कराता है।

  1. ICSE (Indian Certificate of Secondary Education) यह परीक्षा दसवीं कक्षा के विद्यार्थियों के लिए होता है।
  2. CVE (Certificate for Vocational Education) 12वीं कक्षा के लिए यह परीक्षा आयोजित किया जाता है।
  3. ISC (Indian School Certificate) – यह परीक्षा 12वीं कक्षा के लिए आयोजित की जाती है।
यह भी पढ़ें -   किस बीमारी के चलते स्वामी विवेकानंद का इतने कम उम्र में निधन हुआ था

आईसीएसई बोर्ड भारत में 20 से अधिक भारतीय भाषाओं में अपनी शिक्षा को प्रदान करता है। इसके अलावा 12 विदेशी भाषाओं में भी शिक्षा प्रदान करता है। पूरे भारत सहित सिंगापुर और संयुक्त अरब अमीरात जैसे देशों में 1000 से अधिक स्कूल संबंधित हैं।

ISCE बोर्ड में English, Second Language (दूसरी भाषा), History/Civics & Geography (इतिहास/नागरिकशास्त्र और भूगोल) और Science Application को अनिवार्य विषय में रखा गया है। यह विषय हर स्टूडेंट्स को लेना पड़ता है।

भारत सरकार के अधीन आने वाला CBSE Board के अलग यह एक निजी बोर्ड है। यह मुख्य तौर पर कक्षा 10वीं और 12वीं की परीक्षाओं का संचालन करता है। वहीं सीबीएसई बोर्ड एक सरकारी बोर्ड है और इसमें सार्वजनिक और निजी स्कूलों के साथ-साथ केंद्रीय विद्यालय और जवाहर नवोदय विद्यालय भी शामिल हैं।