मोबाइल का आविष्कार किसने और कब किया था? पहला मोबाइल कौन सा था?

मोबाइल का आविष्कार

मोबाइल आज हमारी दुनिया का अहम हिस्सा है। लेकिन क्या आपने कभी सोचा है कि मोबाइल का आविष्कार किसने और कब किया था? इसे बनाने वाले व्यक्ति कौन थे? आइए जानते हैं कि मोबाइल का आविष्कार कब हुआ था और इसे किसने बनाया था?

मोबाइल का आविष्कार किसने किया था?

दुनिया के पहले मोबाइल फोन का निर्माण 3 अप्रैल 1973 को किया गया था। इसे अमेरिका इंजीनियर ने बनाया था। उनका नाम मार्टिन कूपर था। मार्टिन कूपर ने ही 1973 में इसे दुनिया के सामने पहली बार प्रदर्शित किया था। इससे पहले रेडियो फोन और वायरलेस फोन से बातचीत हुआ करती थी। लेकिन इन दोनों का इस्तेमाल ज्यादातर फौज द्वारा किया जाता था।

दुनिया का पहला मोबाइल फोन का वजन 1.1 किलोग्राम था। मार्टिन कूपर द्वारा बनाए गए इस फोन को एक बार चार्ज करने के बाद 30 मिनट तक कॉलिंग की जा सकती थी। लेकिन इसे चार्ज होने में करीब 10 घंटे लगते थे। दुनिया के इस पहले फोन की कीमत उस वक्त 2700 अमेरिकी डॉलर यानी भारतीय रुपयों के हिसाब से 2 लाख रुपये थी।

दुनिया के पहले मोबाइल फोन के निर्माता – मार्टिन कूपर

पेशे से इंजीनियर मार्टिन कूपर ने मोटोरोला कंपनी को सन 1970 में ज्वाइन की थी। 1983 में मोटोरोला का फोन Motorola DynaTAC 8000X से 30 मिनट तक बातचीत हो सकती थी। इस फोन में 30 मोबाइल नंबर को भी सुरक्षित (Save) किया जा सकता था। उस वक्त इस फोन की कीमत 3995 अमेरिकी डॉलर यानी भारतीय रुपये के हिसाब से ₹295669 था।

यह भी पढ़ें -   5जी तकनीक की अमेरिका में टेस्टिंग सफल, 4G से कई गुणा ज्यादा स्पीड मिलेगी

भारत में सबसे पहला मोबाइल फोन कौन सा था?

भारत का सबसे पहला मोबाइल फोन नोकिया कंपनी का था। इस फोन का सबसे पहले पश्चिम बंगाल के पूर्व मुख्यमंत्री ज्योति बसु द्वारा की गई थी। भारत में उस वक्त मोदी टेल्सटा कंपनी के मोबाइल नेटवर्क सर्विस थी। ज्योति बसु ने फोन से पूर्व संचार मंत्री सुखराम से बात की थी। हालांकि दुनिया का सबसे पहला मोबाइल फोन मोटोरोला ने बनाया था।

भारत का पहला मोबाइल फोन कब आया?

भारत में मोबाइल फोन का आगमन दुनिया में मोबाइल फोन के आगमन से 12 साल बाद हुआ। भारत में पहला मोबाइल फोन 31 जुलाई 1995 को आया। भारत में सबसे पहला फोन कॉल 31 जुलाई 1995 को किया गया था। यह फोन कॉल पश्चिम बंगाल के पूर्व मुख्यमंत्री ज्योति बसु ने केंद्रीय दूरसंचार मंत्री सुखराम को किया था। यह भारत की पहली फोन कॉलिंग थी। भारत में मोबाइल सेवा को विस्तार देने के लिए भारत सरकार ने 20 फरवरी, 1997 ट्राई (Telecom Regulatory Authority of India) की स्थापना की।

यह भी पढ़ें -   स्टीफन हॉकिंग द्वारा दिये 10 प्रेरणादायक विचार जो आपका जीवन बदल देगी

पहला मोबाइल कब बना?

दुनिया का पहला मोबाइल फोन 1973 में बना था। इस फोन को 0G (Zero Generation) मोबाइल फोन कहा जाता था। इसके 10 साल बाद 1983 में मोटोरोला ने आम लोगों के लिए मोबाइल फोन को बाजार में उतारा। इस फोन का नाम था – Motorola DynaTAC 8000X, यह एक बार में चार्ज होने पर 30 मिनट तक कॉलिंग की सुविधा देती थी।