भारतीय महिला हॉकी टीम की पहल, लॉकडाउन प्रभावित लोगों की करेगी मदद

नई दिल्ली। भारतीय महिला हॉकी टीम ने कोविड-19 महामारी के कारण घोषित लॉकडाउन में परेशानी का सामना कर रहे प्रवासी श्रमिकों के परिवारों की आर्थिक मदद के लिए शुक्रवार को फिटनेस चुनौती शुरुआत की। कोरोना वायरस के संक्रमण के प्रसार को रोकने के लिए देशभर में तीन मई तक राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन है।

हॉकी इंडिया की ओर से जारी बयान में भारतीय कप्तान रानी रामपाल ने कहा, ‘हर दिन हम अखबारों और सोशल मीडिया में पढ़ रहे हैं कि बहुत सारे लोग भोजन के लिए संघर्ष कर रहे हैं। हमने एक टीम के रूप में इन लोगों को मदद करने के लिए कुछ करने का फैसला किया है।इसके लिए एक ऑनलाइन फिटनेस चुनौती सबसे अच्छा तरीका होगा। हमारा लक्ष्य कम से कम 1000 परिवारों के भोजन के लिए पर्याप्त धन जुटाना है।

गैर सरकारी संगठन उदय फाउंडेशन को राशि दान करेगी

भारतीय महिला हॉकी टीम द्वारा इस धनराशि को दिल्ली स्थित गैर सरकारी संगठन (एनजीओ) उदय फाउंडेशन को दान किया जाएगा। इसका इस्तेमाल विभिन्न स्थानों पर रह रहे प्रवासी श्रमिकों और झुग्गी-झोपड़ियों में रहने वाले बीमार लोगों के लिए बुनियादी आवश्यकताएं प्रदान करने के लिए किया जाएगा। इसके तहत कोष का इस्तेमाल भोजन और सूखा राशन प्रदान करने के अलावा लोगों को साफ सफाई के लिए जरूरी सामान जैसे की सैनिटाइजर और साबुन भी दिया जाएगा।

बता दें कि भारत में कोरोना मरीजों की संख्या लगातार बढ़ रही है। देश में कोरोना से संक्रमित लोगों की संख्या 15000 के पार हो चुकी है। देश में सबसे ज्यादा मामला महाराष्ट्र में है। जबकि दूसरा प्रभावित स्थान दिल्ली है। महाराष्ट्र में जहां 3600 लोग कोरोना की चपेट में आ चुके हैं तो दिल्ली में 1800 से ज्यादा लोग कोरोना से संक्रमित हैं।

कोरोना के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने 18 अप्रैल को प्रस कॉन्फ्रेस में कहा कि दिल्ली सरकार लगातार लोगों की मदद कर रही है। उन्होंने कहा कि दिल्ली सरकार कोरोन से लड़ रहे डॉक्टरों के लिए एक करोड़ की पॉलिसी लेकर आई है। उन्होंने कहा कि यदि किसी डॉक्टर की कोरोना से लड़ते वक्त मौत हो जाती है तो उनके परिवार को दिल्ली सरकार की तरफ एक करोड़ रूपए मदद के तौर पर दिए जाएंगे।

Show comments

This website uses cookies.

Read More