हाइपरटेंशन क्या है? हर चार में से एक व्यक्ति को होता है, जानिए लक्षण

हाइपरटेंशन

डेस्क। विश्व स्वास्थ्य संगठन के रिपोर्ट के अनुसार दुनियाभर के 1.13 बिलियन लोगों में हाइपरटेंशन की बीमारी है। तो क्या आप जानते हैं कि अगर हाइपरटेंशन को कम करने के लिए सही समय पर ध्यान न दिया जाए तो यह आपके लिए घातक साबित हो सकता है। तो आइए जानते इस बीमारी के बारें में…

क्या होता है हाइपरटेंशन?

हाइपरटेंशन (हाई ब्लड प्रेशर) एक ऐसी गंभीर बीमारी है। जिसका उपचार सही समय पर न करने से मनुष्य को हार्ट अटैक, स्ट्रोक, किडनी फेल और अंधेपन का डर रहता है। यह दुनिया भर में समय से पूर्व होने वाली मौतों के प्रमुख कारणों में से एक है। हाइपरटेंशन का मुख्य कारण में खराब खान-पान, व्यायाम न करना, शराब और तंबाकू का सेवन करना माना जाता है।

क्यों इस बीमारी में होती हैं सबसे अधिक मौत

मानव शरीर में हाइपरटेंशन के कारण कई प्रकार की मेडिकल कंडीशन भी पनपने लगते हैं जो धीरे-धीरे उपचार में आने से मनुष्य के लिए घातक हो जाता है। इसी कारण से व्यक्ति की मौत हो जाती है। नीचे बताई गई बातों पर ध्यान दें और जानें कि क्यों घातक है यह बीमारी…

  • इससे मनुष्य को हार्ट अटैक का खतरा बढ़ जाता है।
  • मानव शरीर की किडनी फेल हो सकती है।
  • लोगों में अंधेपन का खतरा बढ़ जाता है।

जानिए क्या है हाइपरटेंशन के लक्षण

  • अगर आपको अचानक से भयानक सिरदर्द हो।
  • शरीर में अधिक थकान या भ्रम का मसूस होना ।
  • आंखों से देखने में समस्या महसूस होना।
  • अचानक से मनष्य के सीने में दर्द का उठना।
  • नार्मल सांस लेने मे तकलीफ होना।
  • मनुष्य के यूरिन में ब्लड दिखना।
  • ब्लड प्रेशर का माप 140/90 के बीच होना।

क्या है इस बार की थीम क्यों मनाया जाता है विश्व हाइपरटेंशन दिवस?

इस बार यानि की साल 2020  विश्व हाइपरटेंशन दिवस पर, इसकी थीम है “Measure your blood pressure, control it and live longer” है। इसका मतलब यह है कि अपने ब्लड प्रेशर को चेक करिए, इसे कंट्रोल करिए और लंबे समय तक जीवित रहिए। विश्व हाइपरटेंशन दिवस को इसलिए मनाया जाता है ताकि पूरी दुनिया के लोगों को इसके बारे में जागरूक किया जा सके और मनुष्य के व्यस्त जीवन में उसके शरीर में पनपने वाले लक्षणों से सचेत किया जा सके।