Friendship Day : क्यों मनाया जाता है फ्रेंडशिप डे

Friendship Day

Friendship Day- आज फ्रेंडशिप डे है। इस दिन को छोटे से लेकर बड़े तक हर लोग फ्रेंडशिप डे सेलिब्रेट करते हैं। क्योंकि दोस्ती के बिना जिंदगी अधूरी है। लेकिन क्या आपको पता है कि फ्रेंडशिप डे क्यों मनाया जाता है? तो आइए जानते हैं इसके पीछे की कहानी…

कब से मनाया जाता है Friendship Day का यह दिन

दरअसल साल 1935 में अमेरिकी सरकार द्वारा एक व्यक्ति को इसकी सजा के लिए उसे मार दिया गया था। जिसके बाद मारे जाने वाले व्यक्ति के कारण उसका दोस्त काफी आहात हुआ और उसने भी आत्महत्या कर ली। तबसे दोस्त की याद में दिए गए बलिदान के लिए सरकार ने अगस्त के पहले रविवार को फ्रेंडशिप डे के रूप में मनाने का निर्णय लिया। इसके बाद से ही मित्रता दिवस को हर वर्ष अगस्त के पहले रविवार को मनाया जाता है।

यह भी पढ़ें -   कहानी- प्रितिया का फ्रॉक, साधना भूषण की रचना

फ्रेंडशिप डे का महत्व – Importance of Friendship Day

दोस्ती का रिश्ता हर रिश्ते से बढ़कर होता है, क्योंकि एक दोस्त खुशी हो या गम हर रूप में साथ देता है। इसलिए प्राचीनकाल से ही दोस्ती को महत्व दिया जाता है। Friendship Day के दिन एक दोस्त दूसरे दोस्त के गले मिलकर फ्रेंडशिप बैंड देकर व उपहार देकर इस दिन को सेलिब्रेट करता है।

क्यों होता है फ्रेंडशिप डे महत्वपूर्ण

  • एक दोस्त ही है जो किसी भी परिस्थिति में हमारा साथ नहीं छोड़ता है।
  • ये दोस्त ही हैं जो हमें असल जिंदगी के मायने सिखाते हैं।
  • एक दोस्त ही विपत्ति के समय साथ देता है चाहे फाइनेंसिली हो या इमोश्नली।
  • दोस्त ही हमें हर उम्र में हंसाना नहीं छोड़ते।
  • दोस्त हमपर तब भी भरोसा करते हैं जब कोई भी भरोसा नहीं करता है।
यह भी पढ़ें -   17 दिसंबर: जब क्रांतिकारी भगत सिंह ने अंग्रेज पुलिस अधिकारी को गोली मारी थी

दोस्ती का रिश्ता खून का नहीं दिल का होता है। लेकिन फिर भी बेहद करीब होता है या यूं कहें कि भगवान हर पल हमारे साथ नहीं रह सकते इसलिए हमारे जीवन में एक रिश्ता ऐसा बनाया जोकि बुरे से बुरे वक्त में भी हमारा साथ नहीं छोड़ता है। वे लोग सबसे ज्यादा खुशनसीब होते हैं जिनके जीवन में दोस्तों की कमी नहीं होती है।


देश-दुनिया की ताजा खबरों के लिए बने रहें हमारे साथ। लेटेस्ट न्यूज के लिए हन्ट आई न्यूज के होमपेज पर जाएं। आप हमें फेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम पर फॉलो कर सकते हैं और यूट्यूब पर Subscribe भी कर सकते हैं।

यह भी पढ़ें -   जब हैदराबाद के निजाम ने 5000 टन सोना देश के लिए दान दिया था