कोरोना वायरस जंग में सबसे मुश्किल हालात में अमेरिका, भारत से लगाई गुहार

कोरोना वायरस जंग

नई दिल्ली। कोरोना का कहर देश और दुनिया में हाहाकार मचा रहा है। खबरों के मुताबिक कोरोना वायरस महामारी से जंग लड़ रहा अमेरिका अब अपने सबसे मुश्किल दौर में प्रवेश कर चुका है। खबरों के मुताबिक रविवार को अमेरिका में करीब 1500 लोगों की मौत हो चुकी है। एक दिन में इतनी मौतों का आंकड़ा भयावह है।

कोरोना वायरस अमेरिका के लिए पर्ल हार्बर हमले की तरह से हो सकता है और देश में अशांति भड़क सकती है। अमेरिका के सर्जन जनरल ने इसकी चेतावनी दी है। खबरों के मुताबिक अमेरिका के सर्जन जनरल जेरोम एडम ने रविवार को कहा कि अमेरिकी लोगों के लिए यह सप्‍ताह सबसे कठिन और सबसे दुखद सप्‍ताह होन जा रहा है।

यह भी पढ़ें -   Corona Good News: 7 दिन बाद दिल्लीवालों के लिए राहतभरी खबर

विकसित देश अमेरिका कई मामलों में अन्य देशों से आगे अपनी रिकॉर्ड दर्ज कर चुका है। संक्रमण के मामले में भी अब अमेरिका में इतनी संख्या में हुई मौतों का ये आंकड़ा रिकॉर्ड बन गया है। विकसित देश अमेरिका में 3,21,000 से ज्‍यादा लोग कोरोना वायरस से संक्रमित हैं।

कोरोना वायरस के जंग से जूझ रहे राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप का प्रशासन इतनी मौतों के आंकड़ों के बाद विरोधियों के निशाने पर आ चुका है। बिजनसमैन से राष्ट्रपति बने डोनाल्ड ट्रंप अमेरिका के कई हिस्सों में लगाए गए लॉकडाउन को खोलना चाहते थे ताकि अमेरिकी अर्थव्यवस्था को बचाया जा सके।

यह भी पढ़ें -   भारत-अमेरिका के बढ़ते संबंध से डरा पाकिस्तान, दे दिया बौखलाहट में ऐसी नसीहत

अमेरिका के सर्जन जनरल से पहले राष्ट्रपति ट्रंप ने भी चेतावनी दी थी कि आने वाले सप्‍ताह अमेरिका के लिए बहुत खतरनाक साबित हो सकते हैं। अमेरिकी राष्‍ट्रपति ने कहा था कि कोरोना वायरस से देशभर में दो लाख से ज्‍यादा लोग मारे जा सकते हैं। इसके लिए अमेरिकी लोगों को कठिन समय का सामना करने के लिए तैयार होना होगा।

अमेरिका में लगातार विकराल होते कोरोना के खात्मे के लिए अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप ने भारत सरकार से गुहार लगाई है। अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने भारत सरकार से मलेरिया रोगी की दी जाने वाली दवाई की मांग की है, ताकि वायरस को प्रसार पर रोक लगाया जा सके। बता दें कि भारत सरकार में मलेरिया की दवाई पर 25 मार्च को ही तत्काल प्रभाव से रोक लगा रखी है। इस दवाई का कोरोना वायरस के खिलाफ सकारात्मक असर देखा गया है।

यह भी पढ़ें -   लॉकडाउन- बिहार के ऑरेंज और ग्रीन जोन के जिलों में राहत, देखें अपना जिला