आखिर किसान क्यों हैं परेशान?

why-are-the-farmers-worried

पुष्पांजलि शर्मा। त्याग और तपस्या का दूसरा नाम है किसान। वह जीवन भर मिट्‌टी से सोना उत्पन्न करने की तपस्या करता रहता है । तपती धूप, कड़ाके की ठंड तथा मूसलाधार बारिश भी उसकी इस साधना को तोड़ नहीं पाते । हमारे देश की लगभग सत्तर प्रतिशत आबादी आज भी गांवों में निवास करती है, जिनका मुख्य व्यवसाय कृषि है और कृषि से उत्पन्न अन्न से हमारा जीवन-यापन होता है। अगर किसान अपनी मेहनत से कृषि न करे तो भारतीय जीवन सम्भव नहीं हैं।

पुरानी कहावत है कि भारत की आत्मा किसान है जो गांवों में निवास करते हैं । किसान हमें खाद्यान्न देने के अलावा भारतीय संस्कृति और सभ्यता को भी सहेज कर रखे हुए हैं। यही कारण है कि शहरों की अपेक्षा गांवों में भारतीय संस्कृति और सभ्यता अधिक देखने को मिलती है। किसान की कृषि ही शक्ति है और यही उसकी भक्ति है।

यह भी पढ़ें -   बेपरवाह और संवेदनहीन सिस्टम ने 'देश के निर्माता' को सड़क पर छोड़ा

वह देशभर को अन्न, फल, साग, सब्जी आदि दे रहा है लेकिन बदले में उसे उसका पारिश्रमिक तक नहीं मिल पा रहा है। प्राचीन काल से लेकर अब तक किसान का जीवन अभावों में ही गुजरा है। किसान मेहनती होने के साथ-साथ सादा जीवन व्यतीत करने वाला होता है।

समय अभाव के कारण उसकी आवश्यकतायें भी बहुत सीमित होती हैं । उसकी सबसे बड़ी आवश्यकता पानी है । यदि समय पर वर्षा नहीं होती है तो किसान उदास हो जाता है । इनकी दिनचर्या रोजाना एक सी ही रहती है । किसान ब्रह्ममुहूर्त में सजग प्रहरी की भांति जग उठता है । वह घर में नहीं सोकर वहां सोता है जहां उसका पशुधन होता है ।

यह भी पढ़ें -   राजनीति को अपराधीकरण से मुक्त करने की राह कितना मुश्किल है?

उठते ही पशुधन की सेवा, इसके पश्चात अपनी कर्मभूमि खेत की ओर उसके पैर खुद-ब-खुद उठ जाते हैं । उसका स्नान, भोजन तथा विश्राम आदि जो कुछ भी होता है वह एकान्त वनस्थली में होता है । वह दिनभर कठोर परिश्रम करता है । स्नान भोजन आदि अक्सर वह खेतों पर ही करता है । सांझ ढलते समय वह कंधे पर हल रख बैलों को हांकता हुआ घर लौटता है।

इतना कड़ा परिश्रम करने के बाद भी किसान को अंत मे अपनी मेहनत का कोई फल नहीं  मिलता तो किसान आत्म हत्या करने पर मजबूर हो जाते  हैं।

यह भी पढ़ें -   पानी की महत्ता उतनी ही है जितनी हमारी सांसों की है...

इसमें सबसे बड़ी वजह किसानों पर बढ़ता कर्ज़ और उनकी छोटी होती जोत  हैं । इसके साथ ही मंडियों में बैठे साहूकारों द्वारा वसूली जाने वाली ब्याज की ऊंची दरें जोकि किसान इस आशा पर लेता है कि खेत में पैदा हुए उपज से वो साहूकार का ब्याज वापिस कर देगा। लेकिन आखिर में उनकी मेहनत पर पानी फिर जाता है और किसान आत्म हत्या करने पर मजबूर हो जाता है। असल में खेती की बढ़ती लागत और कृषि उत्पादों की गिरती क़ीमत किसानों की निराशा की सबसे बड़ी वजह है।