जन्माष्टमी क्यों और कैसे मनाई जाती है? जानें पूजा विधि

जन्माष्टमी

जन्माष्टमी क्यों मनाई जाती है? यूं तो कृष्ण भगवान की पूजा हर दिन घर-घर में होती है। लेकिन जन्माष्टमी के दिन भगवान कृष्ण की अद्भुत छवि देखने को मिलती है। जन्माष्टमी एक ऐसा त्योहार है जिसे लोग पूरे उत्साह के साथ मनाते हैं। इस पवित्र दिन में भक्त मंदिरों में भगवान से प्रार्थना कर उन्हें भोग लगाते हैं। लोग अपने घरों में बालगोपाल को दूध, शहद, पानी से अभिषेक कर नए वस्त्र पहनाते हैं।

Join Whatsapp Group Join Now
Join Telegram Group Join Now

इस कारण मनाई जाती है जन्माष्टमी

वैसे तो भगवान श्रीकृष्ण की कई अवतार हैं लेकिन पौराणिक ग्रथों के अनुसार भगवान विष्णु ने इस धरती को पापियों के जुल्मों से मुक्त कराने के लिए भगवान श्री कृष्ण के रूप में अवतार लिया था।

श्रीकृष्ण ने माता देवकी की कोख से इस धरती पर अत्याचारी मामा कंस का वध करने के लिए मथुरा में अवतार लिया था। कृष्ण का पालन पोषण माता यशोदा ने किया। श्रीकृष्ण बचपन से ही बहुत नटखट थे और उनकी कई सखा और सखियाँ भी थी। जिनके साथ वो बांसुरी बजाया करते थे और रासलीलाएं किया करते थे।

यह भी पढ़ें -   गिरा हुआ पैसा मिलना - जानिए इसका मतलब और शुभ-अशुभ फल

कैसे मनाई जाती है जन्माष्टमी

देश में बाकी त्यौहारों की तरह जन्माष्टमी को भी अलग-अलग तरीकों से मनाया जाता है। कई जगह इस दिन फूलों की होली भी खेली जाती है तथा साथ में रंगों की भी होली खेली जाती है। देशभर में जन्माष्टमी के पर्व पर झाकियों के रूप में श्रीकृष्ण का मोहक अवतार देखने को मिलते हैं। मंदिरों को इस दिन सुंदर तरीके से सजाया जाता है।

लोग इस दिन व्रत भी रखते हैं। रात 12 बजे कृष्ण भगवान के जन्म के बाद उनको भोग लगाकर व्रत खोला जाता है। जन्माष्टमी के दिन मंदिर में भगवान श्रीकृष्ण को झूला झूलाया जाता है। जन्माष्टमी के दिन भगवान श्रीकृष्ण की जन्मस्थली मथुरा नगरी को खूब सजाया जाता है। लोग दूर-दूर से इस दिन मथुरा में कृष्ण जन्मोत्सव देखने आते हैं।

यह भी पढ़ें -   किस बीमारी के चलते स्वामी विवेकानंद का इतने कम उम्र में निधन हुआ था

जन्माष्टमी पर दही-हांड़ी का महत्व

भगवान कृष्ण को दही, दूध, मक्खन बेहद पंसद था। जिसके कारण वो गांव के गोपियों के घर चोरी करके माखन खाया करते थे। एक दिन गोपियों के द्वारा माखन चोरी की शिकायत करने पर मां यशोदा को उन्हें घटों खंभे से बांध कर रखा था। जिसके बाद से ही भगवान कृष्ण का नाम माखनचोर पड़ गया।

इसी कारण अब भी कृष्ण जन्मोत्सव पर भगवान के बाल रूप को हर साल दोहराते हुए दही-हांडी का उत्सव मनाया जाता है। बच्चे उंचाई पर दूध, दही और मक्खन की हांडी बाँधते हैं और फिर इसे मिलकर फोड़ते हैं।

यह भी पढ़ें -   Palmistry Tips: हाथ की रेखाएं बता देती हैं कि आपकी मृत्यु कैसे होगी, कहीं आपके हाथ में भी है यह रेखा?

कब है जन्माष्टमी

हर बार की तरह इस बार भी जन्माष्टमी दो दिन मनाई जा रही है। 11 और 12 अगस्त दोनों दिन जन्माष्टमी का त्योहार मनाया जा रहा है। लेकिन 12 अगस्त को जन्माष्टमी मनाना श्रेष्ठ है। मथुरा और द्वारिका में 12 अगस्त को जन्मोत्सव मनाया जाएगा।

आपको बता दें कि श्रीमद्भागवत दशम स्कंध में कृष्ण जन्म प्रसंग का उल्लेख मिलता है। इसमें कहा गया है कि जिस समय पृथ्वी पर अर्धरात्रि में कृष्ण अवतरित हुए ब्रज में उस समय पर घनघोर बादल छाए हुए थे।

Join Whatsapp Group Join Now
Join Telegram Group Join Now

Follow us on Google News

देश और दुनिया की ताजा खबरों के लिए बने रहें हमारे साथ। लेटेस्ट न्यूज के लिए हन्ट आई न्यूज के होमपेज पर जाएं। आप हमें फेसबुक, पर फॉलो और यूट्यूब पर सब्सक्राइब कर सकते हैं।