जानकारियाँ

ATM PIN Full Form – ATM पिन का फुलफॉर्म क्या होता है?

ATM PIN Full Form in Hindi – आज हम लोग जानेंगे कि एटीएम के पिन का फुल फॉर्म क्या होता है? यदि आप भी एटीएम के पिन का फुल फॉर्म जानना चाहते हैं तो आज आपको इसके बारे में सही जानकारी दी जाएगी। एटीएम पिन का फुल फॉर्म बहुत से लोगों को नहीं पता होता है। आइए जानते हैं एटीएम का पिन का फुल फॉर्म क्या होता है?

ATM PIN Full Form in Hindi – एटीएम पिन का फुल फॉर्म

एटीएम पिन का फुल फॉर्म – पर्सनल आईडेंटिफिकेशन नंबर होता है। अंग्रेजी में ATM PIN का Full Form Personal Identification Number होता है। जिस कार्ड की सहायता से हम लोग पैसे निकालते हैं, उसे सबसे पहले एटीएम में डालना होता है। एटीएम का फुल फॉर्म ऑटोमेटेड टेलर मशीन होता है। अंग्रेजी में ATM का फुल फॉर्म Automated Teller Machine होता है।

एटीएम क्या होता है और एटीएम पिन का मतलब क्या होता है?

बता दें कि किसी अकाउंट का पासवर्ड और एटीएम का पिन दोनों अलग तरह की चीजें होती है। लेकिन बहुत से लोग एटीएम पिन कोड पासवर्ड कह कर भी बुलाते हैं। लेकिन बता दें कि पिन सिर्फ डिजिट में होता है। जैसे- 9912, 6462, 2428 इत्यादि। यहां एक बात ध्यान देने वाली है कि एटीएम का पिन हमेशा 4 डिजिट का ही होता है।

वही पासवर्ड की जब बात आती है तो पासवर्ड में डिजिट के साथ-साथ कैपिटल लेटर, स्माल लेटर और कई स्पेशल नंबर का भी प्रयोग किया जाता है। जबकि एटीएम पिन जनरेशन में सिर्फ डिजिट का ही उपयोग किया जाता है।

बैंक जब किसी ग्राहक को एटीएम कार्ड देता है तो उसके साथ-साथ एक गोपनीय दस्तावेज में उस एटीएम कार्ड का पिन भी ग्राहकों को दिया जाता है। ग्राहक चाहे तो उसी दिन से किसी भी एटीएम मशीन से पैसे निकाल सकते हैं या वह अपनी मर्जी से दूसरी पिन अपने एटीएम के लिए सेट भी कर सकते हैं।

हालांकि इन दिनों बैंकों द्वारा एटीएम कार्ड को घर पर भेज दिया जाता है और बैंक ग्राहकों को खुद से अपना एटीएम पिन जनरेट करने के लिए बोलता है। बैंक ग्राहकों को अपना एटीएम पिन जनरेट करने के लिए कई प्रकार के ऑप्शन भी उपलब्ध करवाता है।

कोई भी ग्राहक अपने एटीएम का पिन ऑनलाइन, इंटरनेट बैंकिंग के माध्यम से या एटीएम मशीन में जाकर जनरेट कर सकते हैं। आजकल बैंकों द्वारा मोबाइल बैंकिंग की सुविधा प्रदान की जाती है। ग्राहक अपने एटीएम पिन को मोबाइल बैंकिंग के द्वारा भी बना सकते हैं।

यदि आपके डेबिट कार्ड या क्रेडिट कार्ड का पिन किसी व्यक्ति को पता चल जाता है तो वह आपके साथ धोखाधड़ी कर सकता है। आपके एटीएम और डेबिट कार्ड का हुआ व्यक्ति गलत इस्तेमाल भी कर सकता है। इसलिए ऐसी किसी भी स्थिति से बचने के लिए और ग्राहकों का लेनदेन सुरक्षित करने के लिए बैंक एटीएम पिन ग्राहक को खुद जनरेट करने के लिए कहता है।

भारत में एटीएम पिन कितने नंबर का होता है?

भारतीय बैंकों द्वारा अपने ग्राहकों को दिए जाने वाले एटीएम कार्ड का पिन 4 डिजिट का होता है। आप अपने मोबाइल फोन में कोई भी 4 डिजिट वाला नंबर सेव करके ना रखें। कई ऑनलाइन फ्रॉड करने वाले हैकर्स यदि जरा सा भी शक हुआ तो वह आपके फोन को हैक कर सकता है। इस प्रकार आप की सुरक्षा में सेंध लग जाता है और हैकर्स द्वारा आपका अकाउंट खाली भी किया जा सकता है।

पिंन 2 फुल फॉर्म होता है। पहला एटीएम कार्ड की स्थिति में पर्सनल आईडेंटिफिकेशन नंबर होता है जबकि पोस्ट ऑफिस के प्रयोग में आने वाले पिन को पोस्टल इंडेक्स नंबर कहा जाता है।

  • PIN – Personal Identification Number
  • PIN – Postal Index Number

हालांकि ATM PIN और पोस्टल पिन में थोड़ा सा फर्क होता है। एटीएम पिन जहां 4 डिजिट का होता है वही पोस्टल पिन भारत में 6 अंकों का होता है। उदाहरण के लिए पटना के किसी इलाके का पिन कोड लेते हैं। 800025 – यह 6 डिजिट का पिन कोड किसी एरिया का पोस्टल इंडेक्स नंबर होता है। इसी पोस्टल इंडेक्स नंबर के जरिए आपकी चिट्ठी आपके घर पहुंचती है।

एटीएम मशीन का मुख्य काम क्या है?

एटीएम मशीन का प्रयोग मुख्य तौर पर पैसों के लेनदेन के लिए किया जाता है। बैंकों में जाकर लाइन में खड़ा होकर पैसा निकालना समय की बर्बादी के साथ-साथ बैंकों के कामकाज को भी प्रभावित करता है। ऐसे में एटीएम मशीन नगद वितरण का काम बैंकों के लिए करता है। इससे बैंकों के ऊपर अतिरिक्त भार कम हो जाता है।

एटीएम पिन का उपयोग कहां होता है?

एटीएम पिन का इस्तेमाल उस समय किया जाता है जब हम किसी एटीएम मशीन से पैसे निकालने जाते हैं। बिना एटीएम पिन के आप किसी भी एटीएम मशीन से पैसे की निकासी नहीं कर सकते हैं। इसके अलावा आप किसी स्टोर पर खरीदारी करते वक्त भी एटीएम के पिन का इस्तेमाल करते हैं।

इसके साथ-साथ इंटरनेट बैंकिंग और मोबाइल बैंकिंग कॉल लॉग इन करने के लिए भी एटीएम कार्ड का नंबर और पिन की आवश्यकता होती है। इसके साथ साथ ऑनलाइन और मोबाइल बैंकिंग के जरिए डिजिटल लेनदेन में भी एटीएम पिन का इस्तेमाल किया जाता है। यूपीआई ट्रांजैक्शन को पूरा करने से पहले यूपीआई का रजिस्ट्रेशन करने के लिए भी atm.pin की जरूरत पड़ती है।

Conclusion: आज हम लोगों ने जाना कि एटीएम का पिन क्या होता है और एटीएम पिन का फुल फॉर्म क्या होता है? बता दें कि एटीएम पिन का फुल फॉर्म पर्सनल आईडेंटिफिकेशन नंबर होता है जो 4 डिजिट का होता है। इस एटीएम पिन का इस्तेमाल किसी भी प्रकार के डिजिटल लेनदेन और एटीएम से पैसे निकालने में किया जाता है।


देश और दुनिया की ताजा खबरों के लिए बने रहें हमारे साथ। लेटेस्ट न्यूज के लिए हन्ट आई न्यूज के होमपेज पर जाएं। आप हमें फेसबुक, पर फॉलो और यूट्यूब पर सब्सक्राइब कर सकते हैं। खबरों का अपडेट लगातार पाने के लिए हमें गूगल न्यूज पर फॉलो करें।


Share
Published by
Huntinews Team

Recent Posts

सपने में लोहा चोरी होना शुभ या अशुभ, जानिए मतलब

कोरोना काल के बाद कई जगहों पर रोजगार का संकट पैदा हो गया है। ऐसे… Read More

सपने में घर में चोरी होना शुभ होता है या अशुभ, जानिए वास्तविक मतलब

सोते समय हम क्या सपना देखेंगे इसका अंदाजा हमें नहीं होता है। सपने हमलोग अचानक… Read More

अरविंद अकेला कल्लू की शादी उनके मंगेतर के साथ हो गई, लेकिन इस अभिनेत्री के साथ मना रहे हैं शादी मुबारक

भोजपुरी सिनेमा के अभिनेता अरविंद अकेला कल्लू ने बनारस की रहने वाली अपनी मंगेतर शिवानी… Read More

सपने में सांप का डसना होता है इस बात का संकेत, हो जाएं सतर्क

स्वप्न शास्त्र के अनुसार, सपनों का फल हमें अवश्य प्राप्त होता है। हालांकि हर सपनों… Read More

This website uses cookies.