कितना अनमोल वो बचपन था

अनमोल बचपन

कितना अनमोल वो बचपन था

Join Whatsapp Group Join Now
Join Telegram Group Join Now

कुछ खट्टा तो कुछ मिट्ठा सा वो छुटपन्न था

कितने अच्छे थे वो खेल-खिलौने

नानी-दादी की वो अनकही सी किस्से

 

मिट्टी के वो घरोंदै और वो नादानियां

जिनमें समेटे हुई थी ढेरों सारी वो कहानियां

न कोई गम था न ही कुछ कम था

फिर भी वो बचपन एकदम नरम था

 

बचपन के उन किस्सों में न दिन थी न रात थी

हर मौसम अपनों के साए में पतझड़ सी बरसात थी

कितने अच्छा था वो बगीचा और खेतों की क्यारियां

गांव के वो आम-इमली के पेड़ और दुरा-दालान

यह भी पढ़ें -   लॉकडाउन : सही या ग़लत ?

 

उस बचपन में सब था न थी कोई जिम्मेदारियां

गांव का वो छोटा सा स्कूल उसमें वो शैतानियां

शुरूआती जीवन जीने की वो निशानियां

बहुत अनकही सी है कुछ कहानियां

 

वो लेमनचुस और खट्ठी मिट्ठी इमली की गोली

चार बच्चों के साथ वाली हंसी-ठिठोली

नारियल की वो आइसक्रीम और छुपम-छुपाई

फिर क्यों न वो बचपन लौट आई

 

इतना अनमोल था वो बचपन

नाना-दादा के साथ बीता हुआ वो छुटपन्न

मां-पापा का वो प्यार-दुलार

जिसके आगे छोटा है ये आज का संसार – ✍ पुष्पांजलि शर्मा

Join Whatsapp Group Join Now
Join Telegram Group Join Now

Follow us on Google News

देश और दुनिया की ताजा खबरों के लिए बने रहें हमारे साथ। लेटेस्ट न्यूज के लिए हन्ट आई न्यूज के होमपेज पर जाएं। आप हमें फेसबुक, पर फॉलो और यूट्यूब पर सब्सक्राइब कर सकते हैं।