जीवन है अनमोल, ना करो मनमानी

जीवन है अनमोल

बबिता सिंह।

जीवन है अनमोल,
ना करो मनमानी
कहती नानी, कहती दादी
कहता ये संसार
बचा लो पानी !

कहता नन्हा- मुन्ना पौधा,
कहता गॉऺव- खलिहान
पानी अगर समाप्त हुआ
तो मिटेगा सारा जहान
बचा लो पानी!

फूलों की बगिया मुरझाए,
होंगे खेत वीरान
धरती की हरियाली सारी
बन जाएगी रेगिस्तान
बचा लो पानी!

हरी-भरी धरती झूमे,
पेड़ लगाकर जगत बचाओ
जल है बहुमूल्य भैया
ना इसे व्यर्थ बहाओ
बचा लो पानी!

यह भी पढ़ें -   स्त्री नहीं है बेचारी By Pushpanjali Sharma

देश और दुनिया की ताजा खबरों के लिए बने रहें हमारे साथ। लेटेस्ट न्यूज के लिए हन्ट आई न्यूज के होमपेज पर जाएं। आप हमें फेसबुक, पर फॉलो और यूट्यूब पर सब्सक्राइब कर सकते हैं। खबरों का अपडेट लगातार पाने के लिए हमें गूगल न्यूज पर फॉलो करें।