जीवन है अनमोल, ना करो मनमानी

जीवन है अनमोल

बबिता सिंह।

जीवन है अनमोल,
ना करो मनमानी
कहती नानी, कहती दादी
कहता ये संसार
बचा लो पानी !

कहता नन्हा- मुन्ना पौधा,
कहता गॉऺव- खलिहान
पानी अगर समाप्त हुआ
तो मिटेगा सारा जहान
बचा लो पानी!

फूलों की बगिया मुरझाए,
होंगे खेत वीरान
धरती की हरियाली सारी
बन जाएगी रेगिस्तान
बचा लो पानी!

हरी-भरी धरती झूमे,
पेड़ लगाकर जगत बचाओ
जल है बहुमूल्य भैया
ना इसे व्यर्थ बहाओ
बचा लो पानी!

यह भी पढ़ें -   ऐ नारी! तुम हर चुनौती में सफल हो... ऐ नारी!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *