PM Gati Shakti Yojana – प्रधानमंत्री गति शक्ति योजना क्या है? जानें

PM Gati Shakti Yojana

प्रधानमंत्री गति शक्ति योजना (PM Gati Shakti Yojana) की शुरुआत प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा 13 अक्टूबर 2021 को किया गया। इस मौके पर प्रधानमंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री गति शक्ति-राष्ट्रीय मास्टर प्लान (Gati Shakti Master Plan) 21वीं सदी के भारत की गति को शक्ति देगा। इससे अगली पीढ़ी के इंफ्रास्ट्रक्चर और ‘मल्टी मॉडल कनेक्टिविटी’ को शक्ति मिलेगी।

पीएम गति शक्ति योजना (PM Gati Shakti Yojana) के अंतर्गत इंफ्रास्ट्रक्चर के काम गति आएगी। इस प्रोग्राम में केंद्र सरकार कुल 107 लाख करोड़ रुपए खर्च करेगी। आइए जानते हैं प्रधानमंत्री गति शक्ति योजना (PM Gati Shakti Yojana) की जानकारियाँ विस्तार से।

प्रधानमंत्री गति शक्ति योजना क्या है?

गति शक्ति योजना एक मास्टर प्लान है। यह योजना सभी मंत्रालयों के मौजूदा और योजनाबद्ध प्रोजेक्ट को कवर करेगा। इसमें इकॉनोमिक जोन और कनेक्टिविटी इंफ्रास्ट्रक्टर का विकास किया जाएगा। इससे इंफ्रास्ट्रक्चर और कनेक्टिविटी में क्षेत्रीय और सेक्टोरल असंतुलन को दूर किया जा सकेगा। इससे देश में रोजगार भी पैदा होगा।

यह भी पढ़ें -   APMC full form in Hindi - APMC का फुल फॉर्म क्या होता है?

केंद्र सरकार की योजना के अनुसार, प्रधानमंत्री गति शक्ति योजना (PM Gati Shakti Yojana) के अंतर्गत सरकार सभी इंफ्रास्ट्रक्चर प्रोजेक्ट्स का इंटिग्रेशन करेगी। इससे इंफ्रास्ट्रक्चर डेवलपमेंट में सभी बाधाएं दूर करने में मदद मिलेगी। इस योजना से कंस्ट्रक्शन की वजह से होने वाली रूकावटें दूर होंगी। इस योजना से देश में निवेश बढ़ेगा और प्रतिस्पर्धा में भी बढ़ोतरी होगी। इससे देश की जनता को फायदा होगा।

पीएम गति शक्ति योजना (PM Gati Shakti Yojana) के लागू होने से देश में बिना किसी रूकावट के आवाजाही हो सकेगी। इससे लोगों का सफर का समय कम होगा। सरकार के अनुसार, इससे ईज ऑफ डूइंग बिजनेस में भी सुधार होगा। बेहतर प्लानिंग होने से प्रोडक्टिविटी भी बढ़ेगी और प्रोजेक्ट को लागू करने में लागत और देरी भी कम होगी।

यह भी पढ़ें -   LLM Full Form, Meaning, Eligibility and Courses in Hindi
पीएम गति शक्ति योजना में सरकार क्या करेगी?

गति शक्ति योजना के अंतर्गत देश में रोड कनेक्टिविटी को मजबूत करने के लिए नेशनल हाइवे का दो लाख किलोमीटर का इंटिग्रेटेड नेटवर्क बनाया जाएगा। इसके साथ ही रेलवे व्यापार में ज्यादा सुविधा के लिए 1600 मिलियन टन की कार्गो हैंडलिंग का विस्तार किया जाएगा।

इसके अलावा वन सिटी, वन ग्रिड के लक्ष्य को हासिल करने के लिए 35 हजार किलोमीटर में गैस पाइपलाइन नेटवर्क बिछाया जाएगा। इस योजना में भारतमाला, सागरमाला, पोर्ट्स, उड़ान, इकोनॉमिक जोन, रेलवे जैसे इंफ्रास्ट्रक्चर की योजनाओं को शामिल किया जाएगा। पीएम गति शक्ति योजना (PM Gati Shakti Yojana) के अगले चरण में सोशल इंफ्रास्ट्रक्चर जैसे अस्पताल, यूनिवर्सिटी का इंटिग्रेशन किया जाएगा।

एयर कनेक्टिविटी और इलेक्ट्रॉनिक्स मैन्युफैक्चरिंग बढ़ेगा

प्रधानमंत्री गति शक्ति योजना (PM Gati Shakti Yojana) के अंतर्गत एयर कनेक्टिविटी को बढ़ाने के लिए 220 एयरपोर्ट, एयरड्रोम और एयरस्ट्रिप भी बनाए जाएंगे। इस योजना के तहत 11 इंडस्ट्रीयल कॉरिडोर की स्थापना भी की जाएगी। योजना के तहत बनने वाले इंडस्ट्रीयल कॉरिडोर कुल 25 हजार एकड़ में फैला होगा। सरकार इस कार्यक्रम के जरिए मेक इन इंडिया को और मजबूती देना चाहती है।

यह भी पढ़ें -   अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस- जानिए क्यों मनाया जाता है महिला दिवस?

योजना के तहत, सरकार का 1.7 लाख करोड़ रुपये का रक्षा क्षेत्र में उत्पादन करने का लक्ष्य है। इससे देश की सेना भी मजबूत होगी। योजना के अंतर्गत देश में कुल 38 इलेक्ट्रॉनिक मैन्युफैक्चरिंग कलस्टर बनाए जाएंगे। इससे भविष्य में भारत इलेक्ट्रॉनिक्स में बड़ा निर्यातक देश बनेगा। पीएम गति शक्ति योजना (PM Gati Shakti Yojana) के तहत देश में 109 फार्मा कलस्टर का विकास किया जाएगा। इससे हेल्थ सेक्टर मजबूत होगा। इसके अलावा 90 टेक्सटाइल कलस्टर या मेगा टेक्सटाइल पार्क भी बनाया जाएगा।