वृतिका की रेडियो कार्यशाला में कैलिफोर्निया की आर जे अंकिता ने किया छात्रों का ज्ञानवर्धन

वृतिका की रेडियो कार्यशाला

नोएडा: मीडिया स्कूल ऑफ दिल्ली मेट्रोपॉलिटन एजुकेशन (डीएमई) द्वारा आयोजित वृतिका 2021 के दूसरे दिन, 12 अक्टूबर, 2021 की शुरुआत आर जे अंकिता आर्या, रेडियो जिंदगी, सैन फ्रांसिस्को, यूएसए द्वारा संचालित रेडियो जॉकिंग कार्यशाला के साथ हुई।

डॉ अंबरीष सक्सेना, डीन और प्रोफेसर, डीएमई मीडिया स्कूल ने शुरूआती व्याख्यान में छात्रों के ज्ञान और कौशल सृजन के लिए इस तरह के अंतर्राष्ट्रीय सहयोगों की सराहना करते हुए आर जे अंकिता का आभार जताया। उन्होंने रेडियो को अंतरंग और संचार का सबसे प्रभावी साधन बताया।

आर जे अंकिता ने रेडियो जॉकी के गुणों का वर्णन कर करते हुए कार्यशाला की शुरुआत की। उन्होंने मशहूर हस्तियों के साक्षात्कार और और उनके शो के दौरान में खट्टे-मीठे अनुभव साझा किए।

यह भी पढ़ें -   Delhi Ex CM Sheela Dixit passed away: दिल्ली की पूर्व सीएम शीली दीक्षित का निधन

कार्यशाला प्रतिभागियों के व्यावहारिक प्रशिक्षण के साथ शुरू हुई जिसमें आर जे अंकिता ने प्रतिभागियों को स्क्रिप्ट पढ़ने का अभ्यास करवाया। उन्होंने रेडियो में कंटेंट डिलीवरी के उपयुक्त तरीके और गति को महत्वपूर्ण बताया। एक अभ्यास के दौरान आरजे अंकिता ने प्रतिभागियों को स्क्रिप्ट में अपशब्दों का इस्तेमाल किए बिना ‘गाली’ पर 30 सेकंड की स्क्रिप्ट लिखने को कहा।

इस रोमांचक अंदाज़ ने प्रतिभागियों को मंत्रमुग्ध कर दिया और इस कौशल से जुडी महत्वपूर्ण बातों की ओर सभी का ध्यान आकर्षित किया। अनुभवी आरजे ने रेडियो के लिए प्रतिभागियों की आवाज को बेहतर बनाने के लिए श्वांस सम्बन्धी व्यायाम का अभ्यास कराया और वाणी प्रशिक्षण पर ज़ोर दिया।

यह भी पढ़ें -   पंचतत्व में विलीन हुईं पूर्व सीएम शीला दीक्षित, अमित शाह, सोनिया गांधी ने दी श्रद्धांजलि

आरजे अंकिता ने अपनी कार्यशाला के दौरान प्रतिभागियों को बहुमूल्य सुझाव दिए। सत्र के दौरान, उन्होंने प्रतिभागियों को नकल न करने की भी सलाह दी। उन्होंने कहा, “श्रोताओं को नयापन पसंद है इसीलिए छात्रों को शुरुआत से ही अपनी शख्सियत को पहचानते हुए उस पर काम करना चाहिए।”

समापन टिप्पणी में, प्रो डॉ सुस्मिता बाला, विभागाध्यक्ष, डीएमई मीडिया स्कूल ने कहा, “आर जे बनने के इच्छुक छात्रों को स्पष्ट उच्चारण पर जोर देना चाहिए, और विशेष रूप से उर्दू शब्दों में ‘नुक्ता’ का सही उपयोग बेहद ज़रूरी है। एक रेडियो व्यक्तित्व के लिए, उत्कृष्ट उच्चारण एक महत्वपूर्ण गुण है।”

यह भी पढ़ें -   रामलीला मैदान में 16 फरवरी को केजरीवाल लेंगे सीएम पद की शपथ

डीएमई मीडिया स्कूल की सहायक प्रोफेसर डॉ टीनम बोरा ने सत्र का समापन किया, डीएमई मीडिया स्कूल की द्वितीय वर्ष की छात्रा स्नेहा टक्कर ने इसका संचालन बखूबी निभाया।

मीडिया फेस्ट के बाद के दूसरे भाग में आरजे हंट प्रतियोगिता, प्रिंट विज्ञापन, 55 फिक्शन, ग्रुप डिस्कशन, डिजिटल आर्ट और कार्टून मेकिंग जैसी मनोरम प्रतियोगिताएं देखी गईं। इसमें देश भर से मीडिया के छात्रों ने भाग लिया।