न जानें कौन हो तुम! By Pushpanjali Sharma

कौन हो तुम

कभी-कभी तुमको सोचती हूं

Join Whatsapp Group Join Now
Join Telegram Group Join Now

तो सब कुछ एक सपना सा लगता है

तुम हो कि नहीं हो

अगर हो भी तो कहां हो

 

क्या कसक है तेरे मेरे दरमियां

तुम न होकर भी मुझमें हर पल हो

तू है तो सब है ये दिन ये रात

ये चांद ये तारे ये धरती और ये आकाश

 

तुम हो तो मेरे अनकहे से कुछ सपने हैं

तुम सी जुड़ी ख्वाहिशें भी सब अपने हैं

मेरी कही हर कहानी में तुम हो

न जानें फिर कहां तुम हो

 

तुम्हें याद करके जब आज आईना देखा मैनें

यह भी पढ़ें -   अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस: प्रेम, करुणा, साहस और कर्तव्यनिष्ठा की मिसाल

आज सचमुच मेरी नजरों में मैं खुबसूरत लगी

वो आइना भी मुझसे तुम्हारे बारे में जिक्र किया

तो फिर समझ नहीं पाई कि आखिर कौन हो तुम

Join Whatsapp Group Join Now
Join Telegram Group Join Now

Follow us on Google News

देश और दुनिया की ताजा खबरों के लिए बने रहें हमारे साथ। लेटेस्ट न्यूज के लिए हन्ट आई न्यूज के होमपेज पर जाएं। आप हमें फेसबुक, पर फॉलो और यूट्यूब पर सब्सक्राइब कर सकते हैं।