Farmers Protest: दिल्ली-यूपी बॉर्डर पर भी हंगामा, किसान प्रदर्शन हुआ उग्र

किसान प्रदर्शन

नई दिल्ली। राजधानी दिल्ली के बॉर्डर पर अन्नदाता का प्रदर्शन (Farmers Protest) जारी है। दिल्ली-यूपी बॉर्डर (Delhi-Up Border) पर किसान जमे हुए हैं। किसानों के प्रदर्शन में रातभर देशभक्ति का गाना गूंजता रहा। सड़क पर ही किसानों ने अपना घर बना लिया है। उधर हरियाणा – दिल्ली बॉर्डर पर भी किसानों का प्रदर्शन जारी है। दिल्ली के 5 प्वाइंट पर किसानों द्वारा अब धरना दिया जाएगा।

किसानों ने सरकार के रूख पर नाराजगी जताते हुए कहा कि बुराड़ी मैदान में बैठने से कुछ नहीं होगा। हम इस काला कानून को रद्द कराने आए हैं। हम दिल्ली जाने वाले सारे बॉर्डर को बंद करेंगे। किसानों ने कहा कि हमारे पास 6 महीने तक का राशन है। हमें आपकी खाने की कोई जरूरत नहीं है। वोट मांगने के लिए गृहमंत्री और प्रधानमंत्री के पास समय है लेकिन हमसे मिलने के लिए नहीं। हम इनका हुक्का पानी बंद करेंगे।

यह भी पढ़ें -   कृषि कानूनों पर सुप्रीम कोर्ट सख्त, कहा - आप रोक लगाएंगे या हम लगाएं?
बॉर्डर से पीछे हटने से इंकार

बता दें कि किसानों का आंदोलन पिछले पांच दिनों से चल रहा है। केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह द्वारा किसानों को बातचीत का आश्वासन देने के बाद भी किसानों का गुस्सा कम नहीं हो रहा है। किसान इस बात पर अड़े हुए हैं कि बातचीत वहीं होगी जहां पर किसान प्रदर्शन कर रहे हैं। आंदोलनरत किसान संगठनों ने कहा है कि वह न तो दिल्ली पुलिस (Delhi Police) द्वारा तय घरनास्थल पर जा रहे हैं और न ही दिल्ली बॉर्डर से पीछे हटेंगे।

किसानों का प्रदर्शन अब धीरे-धीरे उग्र होने लगा है। आंदोलनकारियों को रोकने के लिए पुलिस द्वारा लगाई गई बैरिकेडिंग को भी तोड़ दिया गया है। यूपी में यूपी गेट के गाजीपुर के पास भी धरना शुरू हो गया है। किसान आंदोलन के कारण दिल्ली के पास से गुजरने वाले हाईवे पर जाम की स्थिति बन गई है। इस रास्ते से ऑफिस जाने वाले कर्मचारियों को भी अब समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है।

यह भी पढ़ें -   APMC full form in Hindi - APMC का फुल फॉर्म क्या होता है?
किसानों ने दी चार महीने तक धरना देने की धमकी

किसान संगठनों के नेताओं ने कहा कि वह पूरी तैयारी के साथ आए हैं। अगर जरूरत पड़ी तो उन लोगों के पास अगले 4 महीने तक का राशन मौजूद है और धरना देने का पूरा इंतजाम है। किसानों के इस ऐलान के बाद सरकार की टेंशन बढ़ गई है।