कोरोना संकट के इस घड़ी में सरकार गरीबों की मदद करेगी- वित्त मंत्री

कोरोना संकट

नई दिल्ली। भारत में कोरोना संकट को देखते हुए वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा है कि सरकार गरीबों की मदद के लिए काम कर रही है। कोरोना संकट की वजह से देश में खाने-पीने का संकट न हो इसके लिए केंद्र सरकार ने 1 लाख 70 हजार करोड़  रुपए का राशि गरीबों के लिए आवंटित किया है। सरकार प्रभावित लोगों के खातों में सीधे फैसों को ट्रांस्फर करेगी।

कोरोना के हालात को देखते हुए केंद्र सरकार द्वारा यह एक बड़ी राहत देश की जनता के लिए है। वित्त मंत्री ने कहा कि जो कोरोना कमांडोज इस बीमारी के जंग में लड़ रहे हैं उन्हें 15 लाख का लाइफ इंश्योरेंस दिया जाएगा। वित्त मंत्री ने कहा कि गरीब भूखा न रहे इसके लिए सरकार ने इंतजाम किया है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री अन्न योजना के अंतर्गत 5 किलो अलग से गेहूं और चावल अगले महीने तक दिया जाएगा।

केंद्र सरकार ने इसके अलावा 1 किलो दाल का प्रबंध भी किया है। सरकार के इस योजना का लाभ 80 करोड़ लाभार्थी को मिलेगा। इसके साथ ही बीपीएल परिवारों को उज्जवला योजना के तहत 8 करोड़ परिवारों को तीन महीने तक गैस सिलिंडर फ्री में मिलेगा। 20 करोड़ महिलाओं को अगले तीन महीने तक 500-500 रूपए अकाउंट में दिए जाएंगे।

यह भी पढ़ें -   विशाखापट्टनम: मृतकों की संख्या हुई 8, पीएम मोदी बोले - मामले पर कड़ी निगरानी

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा कि बुजुर्ग, विधवा और दिव्यांगों को सरकार 1000 रुपए की आर्थिक मदद अतिरिक्त में देगी। 1000 रुपए की अतिरिक्त मदद दो किस्तो में दी जाएगी। सरकार ने मनरेगा के तहत काम करने वाले लोगों की दिहारी बढ़ा दी है। अब मनरेगा मजदूरों की दिहारी 182 रुपए से बढ़ाकर 202 रुपए कर दी गई है। इससे लगभग 5 करोड़ परिवारों को फायदा होगा।

केंद्र सरकार ने किसानों को भी राहत दिया है। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा कि सरकार 8.65 करोड़ किसानों को अप्रैल के पहले हफ्ते में 2000 रुपए की किस्त डाल दी जाएगी। यह राशि किसानों को किसान सम्मान निधि योजना के तहत दी जा रही है। बता दें कि किसानों को केंद्र सरकार हर साल 6000 रुपए की आर्थिक मदद देती है।