भारत में कोरोना का संकट और गहराया, 16 लोगों की मौत, संक्रमित लोग 600 के पार

भारत में कोरोना

नई दिल्ली। भारत में कोरोना वायरस के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं। भारत में कोरोना का संकट लगातार गहराता जा रहा है। हालांकि सरकार ने कोरोना संकट के देखते हुए ऐहतियात के तौर पर देश में 21 दिनो का संपूर्ण लॉक डाउन किया हुआ है। 26 मार्च को प्रेस कॉन्फ्रेंस में वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने गरीबों के लिए 1 लाख 70 हजार करोड़ रुपए की ऐलान किया है।

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा कि गरीबों को कोरोना वायरस के इस संकट की घड़ी में सरकार मदद करेगी। केंद्र सरकार ने मनरेगा मजदूरों और किसानों को भी आर्थिक पैकेज का लाभ देगी। मनरेगा मजदूरों की दिहारी को केंद्र सरकार ने बढ़ाकर 202 रुपए कर दिया है। इससे देश के 5 करोड़ परिवारों को फायदा होगा।

वहीं दूसरी तरफ भारत में कोरोना का मामला लगातार बढ़ते हुए 600 के पार हो गया है। भारत में कोरोना से अबतक 12 लोगों की मौत हो चुकी है। 26 मार्च को ही 4 लोगों की मौत के बाद यह आंकड़ा 16 हो गया है। देश की राजधानी दिल्ली में मेट्रो सेवा को अब 14 अप्रैल तक के लिए बंद कर दिया है। हालांकि दिल्ली सरकार ने जरूरी समानों के दुकानों को 24 घंटे खुले रखने का आदेश दिया है।

यह भी पढ़ें -   यौन उत्पीड़न मामले में CJI को क्लीन चिट: महिला ने कहा- मेरे साथ अन्याय हुआ

दिल्ली सरकार ने फैसला किया है कि कोरोना पीड़ित के इलाज में लगे सभी स्थास्थ्य कर्मियों का सरकार टेस्ट कराएगी। बता दें कि ताजा मामले के तरह दिल्ली में मोहल्ला क्लिनिक डॉक्टर के कोरोना पॉजेटिव पाये जाने के बाद दिल्ली सरकार हरकत में आ गई है। मोहल्ला क्लिनिक डॉक्टर के पॉटिजिव पाए जाने के बाद अब दिल्ली में 1000 लोगों पर कोरोना का नया संकट गहरा गया है।

बता दें कि इससे पहले देश में पिछले रविवार 22 मार्च को जनता कर्फ्यू का आह्वाहन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने किया था। जिसके बाद अब केंद्र सरकार ने लॉकडॉउन की सीमा बढ़ाकर 21 दिनों का कर दिया है। प्रधानमंत्री ने 24 मार्च को जनता को संबोधित करते हुए 21 दिनों का संपूर्ण लॉकडाउन की घोषणा की। हालांकि इस लॉकडाउन के बीच भी रोजमर्रा की जरूरत के समानों की दुकान, मेडिकल, पेट्रोल पंप और अस्पताल खुले रहेंगे।

यह भी पढ़ें -   दूसरों को खतरे में ना डालें कोरोना पीड़ित : वीरेंद्र सहवाग

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *