भारत-मेडागास्कर समुद्री क्षेत्र की सुरक्षा में करेंगे एक-दूसरे का सहयोग

भारत-मेडागास्कर

नई दिल्ली। लखनऊ में रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने गुरुवार को डिफेंस एक्सपो 2020 के दूसरे दिन मेडागास्कर के रक्षा मंत्री लेफ्टिनेंट जनरल रोकोटोनिरीना रिचर्ड के साथ द्विपक्षीय वार्ता की। वार्ता के दौरान, रक्षा मंत्री ने समुद्री सुरक्षा के क्षेत्र में सहयोग बढ़ाने पर जोर दिया।

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि समुद्री पड़ोसियों के रूप में भारत-मेडागास्कर की यह जिम्मेदारी बनती है कि वे सुरक्षित समुद्री वातावरण विकसित करें ताकि दोनों देशों के बीच व्यापार और वाणिज्य तेजी से आगे बढ़े।

मार्च 2018 में राष्ट्रपति कोविंद की मेडागास्कर की राजकीय यात्रा को रेखांकित करते हुए राजनाथ सिंह ने कहा कि इस ऐतिहासिक यात्रा ने दोनों देशों के बीच उत्कृष्ट द्विपक्षीय संबंधों को आगे बढ़ाने की दिशा में प्रमुख भूमिका निभाई है। उन्होंने इस बात पर जोर दिया कि इस यात्रा के दौरान हस्ताक्षरित एमओयू ने दोनों देशों के बीच रक्षा सहयोग के लिए एक सक्षम वातावरण प्रदान किया।

यह भी पढ़ें -   जमीन से हवा में मार करने वाली मिसाइल का सफल परीक्षण

रक्षा मंत्री ने आशा व्यक्त की कि डिफेंस एक्सपो 2020 दोनों देशों के बीच रक्षा संबंधों को और मजबूत करने और आपसी जुड़ाव के विभिन्न क्षेत्रों की खोज करने के लिए एक मंच प्रदान करेगा। भारत-मेडागास्कर के संबंधों पर बोलते हुए लेफ्टिनेंट जनरल रोकोटोनिरीना रिचर्ड ने संबोधित करते हुए कहा कि समुद्री क्षेत्र की सुरक्षा बढ़ाने में भारत की बड़ी भूमिका है।

उन्होंने ऑपरेशन वनिला के लिए अपनी सरकार की तरफ से आभार व्यक्त किया, जिसमें भारतीय नौसेना ने ‘चक्रवात डायन’ की वजह से मेडागास्कर के प्रभावित जनता को सहायता प्रदान किया था। मेडागास्कर के रक्षा मंत्री ने इस वर्ष 26 जून के स्वतंत्रता दिवस समारोह में शामिल होने के लिए रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह को आमंत्रित किया।