डोनाल्ड ट्रंप की धमकी भरा बयान, भारत दवाई ना देता तो देते करारा जवाब

डोनाल्ड ट्रंप की धमकी
  • ट्रंप ने कहा- दवाई ना मिलता तो लेते कड़ा एक्शन
  • हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन मलेरिया के लिए कारगार दवा
  • हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन का कोरोना मरीजों पर सकारात्मक परिणाम

नई दिल्ली। कोरोना वायरस के लगातार बढ़ते मामलों के बीच अमेरिका राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने भारत से मदद मांगी थी। जिसके बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने डोनाल्ड ट्रंप को दवाई की सप्लाई का आश्वासन दिया था। लेकिन अब दो दिन बाद ही डोनाल्ड ट्रंप की धमकी भरा बयान आया और ट्रंप ने कहा कि अगर भारत मदद नहीं करता तो उसका करारा जवाब देते।

डोनाल्ड ट्रंप की धमकी भरा बयान ऐसे समय में दिया गया है जब कोरोना से भारत भी संक्रमित है। मंगलवार को डोनाल्ड ट्रंप ने व्हाइट हाउस में प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि रविवार की सुबह मैंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से बात की थी, मैंने उनसे कहा था कि अगर आप हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन की सप्लाई को शुरू करते हैं, तो काफी अच्छा होगा। लेकिन अगर वो ऐसा नहीं करते तो कुछ नहीं होता, तो उसका करारा जवाब दिया जाता। आखिर कड़ा जवाब क्यों नहीं दिया जाएगा?’

बता दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तरफ से भी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप को इस दवाई के लिए आश्वासन दिया गया था। रविवार को हुए इस बातचीत के बाद भारत सरकार ने जरूरी 12 दवाईयों के निर्यात पर रोक हटा ली थी।

यह भी पढ़ें -   कोरोना वायरस से बचाव- DRDO ने तैयार किया बॉयो सूट
हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन क्यों जरूरी? 

बता दें कि कई रिसर्च में इस बात का खुलासा हुआ है कि हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन दवाई का प्रयोग कोरोना वायरस संक्रमित मरीजों में सकारात्मक परिणाम दे रहा है। इसे कोरोना वायरस से लड़ने में मददगार बताया गया है। यह दवा भारत में ज्यादा मात्रा में बनाया जाता है। चुकी भारत में हर साल मलेरिया से काफी मरीज अस्पतालो में आते हैं इसलिए हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन का निर्माण भारत में बड़े पैमाने पर किया जाता है।

यह भी पढ़ें -   दीपक मिश्रा बने नए मुख्य न्यायधीश, पीएम मोदी ने दी बधाई

बीते मार्च महीने में भारत में कोरोना वायरस संक्रमण के बढ़ते मामलों के बीच भारत सरकार ने हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन दवाई के निर्यात पर रोक लगा दी थी। बता दें कि भारत में कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों की संख्या 4400 के पार हो गई है। इस बिमारी से अबतक भारत में 114 लोगों की मौत हो चुकी है। हालांकि 326 संक्रमित लोग कोरोना वायरस को मात देने में सक्षम हुए हैं।