गलवान टेंशन के बाद भारतीय नौसेना ने दक्षिण चीन सागर में तैनात किया था वॉरशिप

गलवान टेंशन

नई दिल्ली। भारत और चीन के बाच गलवान में टेंशन होने के बाद भारतीय नौसेना ने दक्षिण चीन सागर में अपना वॉरशिप तैनात कर दिया था। हालांकि इसको लेकर भारतीय नौसेना ने ज्यादा पब्सिलिटी नहीं की। इसे गुपचुप तरीके से अंजाम दिया गया। गलवान टेंशन के दौरा वॉरशिप लगातार अमेरिकी नेवी के वॉरशिप से भी संपर्क में थी। इसको लेकर चीन ने भारत के सामने विरोध भी दर्ज कराया था।

Join Whatsapp Group Join Now
Join Telegram Group Join Now

जानकारी के मुताबिक, दोनों पक्षों के बीच जब गलवान विवाद को लेकर डिप्लोमैटिक स्तर की बातचीत शुरू हई तो चीन ने इसपर सबसे पहले भारत के सामने नाराजगी जताई थी। बता दें कि दक्षिणी चीन सागर को चीन ने अपना बताता है। हालांकि यहां पर मौजूद अन्य देश भी अपना दावा पेश करते हैं।

यह भी पढ़ें -   श्रीलंका के साथ समझौते से सामने आया चीन का चेहरा, पाकिस्तान के लिए खतरे की घंटी

चीन ने 2009 से ही चीन सागर में अपनी सैन्य मौजूदगी को बढ़ा रहा है। भारतीय नौसेना के वॉरशिप की तैनाती के बाद चीनी नौसेना ने भारत के सामने इस मुद्दे पर शिकायत भी की थी। दरअसल, यह एक नियमित ड्रिल थी। इसमें भारतीय नौसेना ने इस पूरे मिशन बेहद ही संतुलित और खुफिया तरीके से पूरा किया।

गलवान झड़प में 20 भारतीय जवान शहीद हुए थे

बता दें कि बीते दिनों भारत और चीन के बीच लद्दाख के गलवान घाटी में हुए विवाद और हिंसक झड़प में 20 भारतीय जवान शहीद हो गए थे। इसके बाद ही भारतीय नौसेना ने दक्षिण चीन सागर में अपना वॉरशिप तैनात कर दिया था। गलवान झड़प में चीन के भी लगभग 60-70 के करीब जवानों के मारे जाने की जानकारी मिली थी। हालांकि चीन ने इस बात की जानकारी साझा नहीं की।

यह भी पढ़ें -   प्रवासियों की घर वापसी हुई मुश्किल, केंद्र सरकार ने बदल डाली पुरानी गाइडलाइन

भारतीय नौसेना हिंद महासागर में अजेय

बता दें कि अलग-अलग सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक, भारतीय नौसेना हिंद महासागर और आसपास होने वाली किसी भी गैर जरूरी गतिविधि से निपटने में पूरी तरह से सक्षम है। नौसेना की कोशिश जारी है कि जल्द से जल्द हिंद महासागर में सतर्कता बढ़ाने के लिए जरूरी सिस्टम को मजबूत कर लिया जाए।

Join Whatsapp Group Join Now
Join Telegram Group Join Now

Follow us on Google News

देश और दुनिया की ताजा खबरों के लिए बने रहें हमारे साथ। लेटेस्ट न्यूज के लिए हन्ट आई न्यूज के होमपेज पर जाएं। आप हमें फेसबुक, पर फॉलो और यूट्यूब पर सब्सक्राइब कर सकते हैं।