आईपीएल 2020 पर रोक लगाने के लिए सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर

आईपीएल 2020

नई दिल्ली। भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड की टी-20 लीग इंडियन प्रीमियर लीग के आयोजन पर खतरा मंडरा रहा है। आईपीएल 2020 पर रोक लगाने का मामला सुप्रीम कोर्ट पहुंच गया। सुप्रीम कोर्ट ने वकील और याचिकाकर्ता मोहन बाबू अग्रवाल को नियमित पीठ में याचिका दाखिल करने को कहा है।

याचिककर्ता ने कोरोना वायरस के कारण इंडियन प्रीमियर लीग को स्थगित करने की मांग की थी। वहीं बीसीसीआई सूत्रों ने कहा कि 15 देशों का वीजा रद्द होने के चलते कोई भी विदेशी खिलाड़ी 15 अप्रैल तक इस टूर्नामेंट में नहीं खेलेगा।

आपको बता दें कि 29 मार्च से 24 मई तक खेले जाने वाले आईपीएल 2020 टूर्नामेंट पर कोरोना की मार पड़ने के आसार हैं। इस पर रोक लगाने के लिए मद्रास हाईकोर्ट में भी एक अर्जी दी गई है। हाईकोर्ट में अर्जी दाखिल करने वाले वकील जी. एलेक्स बेनजीगर ने एक याचिका दाखिल की है।

यह भी पढ़ें -   Journalist Ajay Jha पत्नी, बच्चों सहित हुए कोरोना पॉजिटिव, लगाई मदद की गुहार

जस्टिस एमएम सुधींद्र और कृष्णन रामास्वामी की खंड पीठ इस पर सुनवाई कर सकती है। याचिकाकर्ता का कहना है कि डब्ल्यूएचओ की वेबसाइट के मुताबिक, अब तक कोरोना वायरस को लेकर कोई खास दवाई या इसके खतरे से बचाव का इलाज मौजूद नहीं है। यह पूरी दुनिया में तेजी से फैल रहा है और यह एक महामारी जैसी स्थिति बना रहा है।

महाराष्ट्र के स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे ने बुधवार को कहा कि राज्य में कोरोना की स्थिति को देखते हुए सरकार के पास दो ही विकल्प हैं। पहला आईपीएल मैचों को स्थगित करना और दूसरा बिना टिकटों की बिक्री के मैचों का आयोजन कराना। उनका यह बयान राज्य में दो लोगों में संक्रमण की जांच रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद आया है। राज्य सरकार के सूत्रों ने कहा, टिकटों की बिक्री न होना तय है।

यह भी पढ़ें -   कोरोना वायरस को लेकर उप्र में 10 लाख लोगों की स्क्रीनिंग की गई: स्वास्थ्य मंत्री

बता दें कि कोरोना वायरस अबतक 60 से ज्यादा देशों में फैल चुका है। चीन के बाद कोरोना वायरस का सबसे ज्यादा असर इटली में देखा जा रहा है। भारत सरकार ने एतिहात के तौर पर कई देशों का वीजा रद्द कर दिया है।